33.1 C
Delhi
Homeबाराबंकीबाराबंकी : अधिवक्ताओं ने एडीजे के विरोध में की नारेबाजी

बाराबंकी : अधिवक्ताओं ने एडीजे के विरोध में की नारेबाजी

- Advertisement -

बाराबंकी/शोभित शुक्ला : न्यायालय की अवमानना के दोषी नगर कोतवाल व नायब तहसीलदार को जेल भेजने के सिविल जज जू0डि0 कोर्ट नम्बर 13 के फैसले पर अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम द्वारा रोक लगाने से नाराज़ सैकड़ो अधिवक्ताओं ने मंगलवार कोर्ट खुलते ही एडीजे प्रथम कोर्ट पहुँच कर जमकर मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए विरोध दर्ज कराया।

अधिवक्ताओं का आक्रोश देखते हुए एडीजे प्रथम कोर्ट के बाहर सुरक्षाकर्मियों को तैनात करना पड़ा। मंगलवार को कोर्ट खुलते ही सैकड़ो की तादाद में इकट्टा हुए अधिवक्ताओं ने परिसर में घूम घूम कर एडीजे प्रथम नित्यानंद श्रीनेत के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी शुरू कर दी। दरअसल अधिवक्ता एडीजे प्रथम द्वारा कोर्ट नम्बर 13 के उस आदेश पर रोक लगाने से आक्रोशित थे। जिसमे न्यायालय की अवमानना के दोषी पाए जाने पर सिविल जज ख़ान ज़ीशान मसूद ने नगर कोतवाल अमर सिंह और सदर तहसील के नायब तहसीलदार केशव प्रसाद को जेल भेजने का आदेश जारी किया था।

अधिवक्ताओं का आरोप था कि पुलिस और प्रशासन के दबाव में नियम विरुद्ध तरीके से एडीजे प्रथम द्वारा कोर्ट नम्बर 13 के आदेश पर रोक लगायी गयी है। परिसर में नारेबाजी के उपरांत आक्रोशित अधिवक्ताओं का हुजूम एडीजे प्रथम कोर्ट पहुँचा और एडीजे प्रथम नित्यानंद श्रीनेत के सामने जमकर मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए अपना विरोध दर्ज कराया। तत्पश्चात अधिवक्ताओं ने कोर्ट नम्बर 13 पहुँचा और सिविल जज जू0डि0 ख़ान ज़ीशान मसूद के समर्थन में जमकर जिंदाबाद के नारे लगाते हुए उनके फैसले का समर्थन किया। अधिवक्ताओं की नारेबाजी से जहा कोर्ट परिसर में अफ़रातफ़री का माहौल बन गया। वही अधिवक्ताओं के आक्रोश को देखते हुए एडीजे प्रथम कोर्ट पर सुरक्षाकर्मियों को भी तैनात किया गया है।

जिला बार के पूर्व व वर्तमान पदाधिकारियों ने करी बैठक मामले को लेकर न्यायालय परिसर स्थित जिला बार कार्यालय में बार एसोसिएशन के वर्तमान व पूर्व पदाधिकारियों की बैठक आहूत की गयी। जिसमे सर्वसम्मति से एडीजे प्रथम के आदेश को नियम विरुद्ध बताते हुए वापस लेने की मांग रखी गयी। बैठक में ये भी निर्णय लिया गया कि एडीजे प्रथम के आदेश के विरुद्ध उच्च न्यायालय से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक अपील की जाएगी व अवकाश पर चल रहे जिला जज के वापस आने पर उनके समक्ष भी मामले को रखा जाएगा। बैठक में प्रमुख रूप से जिला बार अध्यक्ष योगेंद्र वर्मा, महामंत्री नरेश सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष दिलीप गुप्ता, उपाध्यक्ष उत्तम कुमार श्रीवास्तव, पूर्व महामंत्री नरेंद्र वर्मा, पूर्व अध्यक्ष ब्रजेश दीक्षित, हरीश अग्निहोत्री समेत समस्त पदाधिकारी शामिल रहे।

यह भी पढ़े…

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -