33.1 C
Delhi
Homeबेतियाबेतिया : 54 वाँ अभियंता दिवस पर भारतरत्न डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को...

बेतिया : 54 वाँ अभियंता दिवस पर भारतरत्न डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को शिद्दत से दी गई श्रद्धांजलि

- Advertisement -

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा : तिरहुत अवर प्रमंडल बेतिया 2 स्थित अतिथि गृह भवन में बुधवार को अभियंत्रण समन्वय समिति अभियंता शिरोमणि भारतरत्न डॉ. मोक्षगुण्डम विश्वशरैया को 54 वें अभियंता दिवस के अवशर पर तेल चित्र पर अधीक्षण अभियंता ई. हरिकेश्वर राम ने माल्यार्पण कर किया।

जिसको लेकर एक सभा का आयोजन किया गया, जबकि मंच का संचालन इंजीनियर माधव प्रसाद सिंह ने किया। कार्यक्रम के दौरान अभियंताओं ने भारतरत्न डॉ. मोक्षगुण्डम विश्वेश्वरैया के बारे में प्रकाश डाला। बताया जाता है कि अंग्रेज भी मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या  की इंजीनियरिंग का लोहा मानते थे। बता दें उनके कार्यों की बदौलत ही उनको मॉर्डन मैसूर का पिता भी कहा जाता है। वे टाटा स्टील के 1927-55 के दौरान बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर भी रह चुके हैं।उन्होंने देश के लिए अन्य कई बड़े कार्य भी किये।

भारत के इस रत्न व महान इंजीनियर ने साल 1962 में अंतिम सांस ली। एक महान सिविल इंजीनियर व राजनेता रहे। एम विश्वेश्वरैया का जन्म मैसूर के कोलार जिले के चिक्काबल्लापुर तालुक में 15 सितंबर, 1861 को हुआ था। उन्हें साल 1955 में भारत रत्न की उपाधि से नवाजा गया । मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार डॉ विश्वेश्वरैया की शुरुआती पढ़ाई चिकबल्लापुर से हुई। विकिपीडिया के अनुसार बेंगलूरू से उन्होंने 1881 में बीए डिग्री प्राप्त की और इसके बाद पुणे से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। वह वर्ष 1912 से 1918 तक मैसूर के 19वें दीवान रहे। कहा जाता है कि अंग्रेज भी  मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या की इंजीनियरिंग का लोहा मानते रहे। उनके कार्यों की बदौलत ही उनको  मॉर्डन मैसूर का पिता भी कहा जाता है।

वे टाटा स्टील के 1927-55 के दौरान बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर भी रह चुके हैं। उन्होंने देश के लिए अन्य कई बड़े कार्य भी किये। भारत के इस रत्न व महान इंजीनियर ने साल 1962 में अंतिम सांस ली। इस अवसर पर जल संसाधन विभाग, भवन निर्माण विभाग, लघु सिंचाई ग्रामीण कार्य विभाग, स्थानीय अभियंत्रण विभाग, विद्युत विभाग, गंडक विकास प्राधिकरण, नगर एवं आवास विभाग, नगर पालिका विभाग, मनरेगा विभाग, सर्वशिक्षा अभियान विभाग के अभियंताओं ने भाग लिया। समारोह का संबोधन-कार्यपालक अभियंता -इंजीनियर रवींद्र नाथ सिन्हा, कार्यपालक अभियंता- संजय कुमार सिंह, इंजीनियर लाल बाबू महतो पूर्व महामंत्री, इंजीनियर माधव प्रसाद सिंह पूर्व महामंत्री, इंजीनियर संदीप कुमार, इंजीनियर रवींद्र कुमार, इंजीनियर पंकज कुमार, इंजीनियर रितेश चंद्र, इंजीनियर शिव शंकर प्रसाद इंजीनियर जीवन प्रकाश दीप, इंजीनियर जितेंद्र कुमार वर्मा, इंजीनियर मोहम्मद सलाउद्दीन, इंजीनियर विनय कुमार, इंजीनियर एहतराम अंसारी, इंजीनियर जय नारायण प्रसाद सिंह, इंजीनियर राम नारायण साह, इंजीनियर राजेश कुमार व अन्य अभियंता मौजूद रहे।

यह भी पढ़े…

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -