हड़ताली कार्यपालक सहायको का 8 सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन का धरना-प्रदर्शन

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा : बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ के आह्वान पर 8 सूत्री मांगों के समर्थन में अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी है। कार्यपालक सहायको का बुधवार को जिला इकाई पश्चिम चंपारण ने गांधी की कर्मभूमि भितिहरवा आश्रम के समक्ष धरना प्रदर्शन किया। इस संबंध में कार्यपालक सहायक सेवा संघ के जिला अध्यक्ष हिमांशु श्रीवास्तव ने बताया कि जबतक सरकार हमारी मांगे पूरी नहीं करती है, तब तक हमारा अनिश्चित कालीन हड़ताल जा री रहेेगा।


उन्होंने बताया कि सरकार कार्यपालक सहायकों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। इसलिए सरकार हमारी हितों के खिलाफ निर्णय ले रही है। बिहार सरकार कार्यपालक सहायकों की नियुक्ति बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी का गठन कर की है। लगभग 10 वर्षों से हम कार्यपालक सहायक अपने कर्तव्यों का लगातार निर्वहन करते आ रहे है।

उन्होंने बताया कि हमारी बेहतर कार्यों के कारण ही बेहतर प्रशासन के लिए बिहार सरकार और वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय कई पुरस्कार मिल चुका है। वर्तमान में बिहार सरकार अपने हिटलरशाही रवैया के कारण हमारे मूलभूत विभाग से हटाकर एक कंपनी बेल्ट्रौन को सौपना चाहती है। उन्होंने बताया कि सरकार हमें बेघर कर सड़क पर लाकर हमारा कार्य एक कम्पनी से कराना चाहती है, जो कि कार्य पालक सहायकों के साथ सरासर अन्याय है।

इस दौरान जिला संयोजक अदित्य कुमार,नरकटियागंज अध्यक्ष मनीष कुमार, गौनाहा प्रखंड अध्यक्ष आशीष कुमार, जिला कोषाध्क्ष गुड्डू कुमार, दीपक कुमार, गोपाल पासवान, कृष्ण मोहन शर्मा, सोनू कुमार, अखिलेश कुमार, वीरेंद्र राम, तन्मय मिश्रा, अमित कुमार व दर्जनों कार्यपालक मौजूद रहे। उनकी प्रमुख मांगे कार्य मुक्त कार्यपालक सहायकों को तत्काल प्रभाव से अन्य विभागों में समायोजित करना।

कार्यपालक सहायक की न्यूतम योग्यता इंटर करते हुए, उनको नियमितीकरण करना। महिला कार्य पालकों को विशेष अवकाश अनुमन्यता प्रभावी करना। कार्यपालक सहायकों का देंय 10 प्रतिशत,वार्षिक मानदेय वृद्धि 66 प्रतिशत।यदि कार्यपालक सहायकों को स्थानांतरण किया जाए तो उनको सरकारी सेवा के अनुरूप अनुमान्य भत्ता देना। 2015 के आंदोलन के दौरान आंदोलनरत कार्यपालक सहायकों पर दायर गर्दनीबाग कांड को समाप्त करना।