31.1 C
Delhi
Homeबेतियापश्चिम चम्पारण जिला को मधुमक्खी पालन एवं शहद उत्पादन का केंद्र बनाने...

पश्चिम चम्पारण जिला को मधुमक्खी पालन एवं शहद उत्पादन का केंद्र बनाने की दिशा में उठाएं ठोस कदम : कुंदन कुमार

- Advertisement -spot_img

कलस्टर में शहद उत्पादन सुनिश्चित करें, किसानों की आय में वृद्धि होगी

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा। पश्चिम चम्पारण जिला को मधुमक्खी पालन एवं शहद उत्पादन का केंद्र बनाने की दिशा में ठोस पहल करने की आवश्यकता पर जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार ने बल दिया है। इच्छुक किसानों को आवश्यक संसाधन सहित ऋण मुहैया कराने की समुचित व्यवस्था करने एवं हनी प्रोडक्शन के लिए किसानों में जागृति एवं उन्हें प्रेरित करने को जिला पदाधिकारी कार्यालय प्रकोष्ठ में आयोजित समीक्षात्मक बैठक में कृषि, उद्यान एवं जीविका से जुड़े पदाधिकारियों को निदेशित किया।

उन्होंने कहा कि कलस्टर में शहद उत्पादन करना सुनिश्चित करें। इससे शहद उत्पादक किसानों की आय में वृद्धि होगी। इसकी विस्तृत कार्ययोजना बनाई जानी चाहिए। इसके लिए कार्य योजना में प्रखंडस्तर पर मधुमक्खी पालन, शहद उत्पादन व हनी प्रोसेसिंग यूनिट, ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग को शामिल करें। सहायक निदेशक, उद्यान ने बताया कि मुख्यमंत्री बागवानी मिशन वितीय वर्ष 2022-23 के अंतर्गत मधुमक्खी पालन योजना में जीविका सामान्य को 1500 बक्से एवं जीविका अनुसूचित जाति/जनजाति को 1500 बक्सों का औपबंधिक लक्ष्य विभाग ने निर्धारित किया है।

ज़िला पदाधिकारी ने निदेश दिया कि मुख्यमंत्री बागवानी मिशन के अंतर्गत डीपीएम, जीविका के साथ समन्वय स्थापित कर योजना का क्रियान्वयन पश्चिम चम्पारण जिला व विशेषकर दोन क्षेत्र की महिलाओं के बीच करना सुनिश्चित करें। जिससे जनजातीय क्षेत्र की महिलाओं के मध्य स्वरोजगार एवं आय का सृजन किया जा सके। इस अवसर पर उप विकास आयुक्त अनिल कुमार व अन्य संबंधित पदाधिकारी उपस्थित रहे।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -