औरंगाबाद: सोन पुल के निर्माण से क्षेत्र का होगा चहुंमुखी विकास

0
308

औरंगाबाद/प्रतिनिधि: दाउदनगर-नासरीगंज सोन पुल निर्माण से मगही एवं भोजपुरी संस्कृतियों के मिलन के साथ क्षेत्र का चहुंमुखी विकास होगा। साथ ही बोधगया से सारनाथ सड़क मार्ग से जुड़ जाएगा।

बक्सर बलिया की दूरी भी सिमट जाएगी। पुल के चालू होने से लोगों का सफर सुहाना होने वाला है। पहले लोग नासरीगंज पैदल नाव से या वाहन के द्वारा डेहरी होकर जाते थे, जिससे काफी दूरी होने के साथ समय भी लगता था। पुल का उद्घाटन हो जाने के बाद लोगों का सपना सच होने वाला है। लोगों का कहना है कि अरसे से पुल की आस लगाए थे जो अब सच होता दिख रहा है। अरवल पुल निर्माण के बाद दाउदनगर में सोनपुल निर्माण का सपना लोगों ने देखा था जो अब पूरा होने को है। पुल की शुरुआत होने से कई इलाके सड़क मार्ग से सीधे जुड़ जाएंगे। दाउदनगर का व्यापारिक एवं सामरिक विकास होगा। यहां की मशहूर पीतल कांसा, आभूषण व्यवसाय के साथ-साथ बाजार की भी चमक बढ़ेगी। नासरीगंज इलाके के लोगों को डेहरी एवं आरा जाने के बजाय दाउदनगर बाजार से सामानों की खरीदारी करना सुलभ होगा। शैक्षणिक संस्थाओं में तो पुल निर्माण के समय से ही नासरीगंज इलाके के छात्रों का आवागमन आरंभ है। यहां के कोचिंग, कॉलेज एवं आईटीआई में सैकड़ों छात्र नामांकित है जो प्रतिदिन डायवर्सन पार करके यहां आते थे और वापस लौट जाते हैं।

लोगों में है हर्ष का माहौल
नाबार्ड से ऋण मिलने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा 9 फरवरी 2014 को इसका शिलान्यास किया गया। स्थानीय प्रो. डा. सत्येंद्र कुमार, डा. कामेश्वर शर्मा का कहना है पुल निर्माण से मगध एवं भोजपुर आपस में जुड़ेंगे। शादी विवाह के साथ साथ व्यापार में बढ़ोतरी होगी।