रामेश्वर प्रेम लिखित ‘जल डमरू बाजे’ की प्रस्तुति ने दर्शकों का दिल जीता, खूब बजी तालियां

0
655

बेगूसराय/विनोद कर्ण: द प्लेयर्स एक्ट, बेगूसराय द्वारा आयोजित फैक्ट स्पेस रतनपुर में बिहार के निर्मली ग्राम में जन्मे हिन्दी रंगमंच के प्रसिद्ध नाटककार रामेश्वर प्रेम की रचना तथा युवा रंग निर्देशक चन्दन कुमार वत्स निर्देशित नाटक जल डमरू बाजे की अविस्मरणीय प्रस्तुति को देख श्रोताओं का मन प्रसन्न हो गया. दर्शकों ने खूब तालियां बजायी.संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के सौजन्य से व्यक्तिगत अनुदान अंतर्गत मंचित नाटक जल डमरू बाजे बिहार में कोसी नदी की प्रलयंकारी बाढ़ की विभीषिका को दर्शाता है.

इस नाटक में ऐसे चरित्रों का प्रवेश है जिनके घर-बार डूब गए हैं और ऐसा कोई आर्थिक सामाजिक आधार नहीं है जिस आधार पर वे जीवित मनुष्यों की कोटि में आ सकें. लेकिन वे अपने समाज में व्याप्त नफरत, जात-पात, ऊँच-नीच आदि सामाजिक बंधनों से मुक्त नहीं है.

एक अदृश्य प्रतीक्षा उनके इर्द-गिर्द जमी हुई है कि वे एक दिन विपदाग्रस्त जीवन से विपदारहित जीवन की ओर उन्मुख होंगे. अर्थात यह नाटक एक ऐसी सुबह के लिए प्रार्थनारत चरित्र है जिसमें मनुष्य के बचे रहने की थोड़ी-सी भी गुंजाइश छिपी है.

नाटक में पंडित रामभरोसे की भूमिका में अमरेश कुमार, मुंहचीरा – चन्दन कुमार, भूखला – मिथलेश कांति व भुखली की भूमिका में  मोनिका कांति ने उत्कृष्ठ अभिनय कर नाटक को जीवंत बनाया तथा सूप्पी की भूमिका में देवानंद सिंह, डोमा / कर्मचारी – मो. रहमान, रामकली – सत्यम भारती, गहना – सिल्की सिंह तथा राजनेता के किरदार में चंदन कु वत्स ने अपने बेहतरीन अभिनय से दर्शकों का दिल जीत लिया. वहीं प्यारे/पुत्र/प्रेत-1 – वैभव सिंह, पत्रकार/प्रेत 2 – कमलेश कुमार, प्रेत -3/डॉक्टर – वेंकटेश कुमार, प्रेत – 4 / पायलट – शिवम कुमार तथा बच्चा की भूमिका में बाल कलाकार मातृभाषा कांति ने भी सुन्दर अभिनय किया.

सभी कलाकारों का अभिनय काफी सराहनीय रहा. नाटक में मार्गदर्शन एवं मंच संचालन कुमार अभिजीत मुन्ना ने किया तथा प्रकाश परिकल्पना कर चिन्टू कुमार ने नाटक की सौन्दर्यता को बनाए रखा.

वहीं संगीत निर्देशन अमरेश कुमार एवं दीपक कुमार ने किया. विदित हों की मुख्य अतिथि फैक्ट रंगमंडल के अध्यक्ष बी.आर.के.सिंह उर्फ राजू जी, पूर्व मेयर संजय सिंह, डा. रंजन चौधरी, डा. कमलेश, समाजसेवी दिलीप सिन्हा, जनकवि दीनानाथ सुमित्र ने नाट्य प्रदर्शन का उदघाटन सम्मिलित रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया. संस्था के सचिव चन्दन कुमाऋ सोनू द्वारा अतिथियों को पुष्प गुच्छ एवं अंगवस्त्र से ससम्मान सम्मानित किया गया.