32.1 C
Delhi
Homeबिहारपटनाबिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड टेलीकॉम संरचना प्रदाता के रूप में...

बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड टेलीकॉम संरचना प्रदाता के रूप में निबंधित

- Advertisement -

स्टेट डेस्क/पटना: बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड को संचार मंत्रालय, भारत सरकार के दूरसंचार विभाग द्वारा भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम 1885 के तहत टेलीकॉम संरचना प्रदाता के (Infrastructure Provider Category I (IP-I) रूप में निबंधन प्रमाण पत्र प्रदान किया गया है। अब राज्य की ट्रांसमिशन कंपनी विद्युत संचरण के साथ-साथ टेलीकॉम प्रक्षेत्र में विभिन्न टेलीकॉम कंपनियों को अपने ट्रांसमिशन लाइन के माध्यम से दूरसंचार हेतु Infrastructure की सुविधा प्रदान कर सकेगी। ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने यह जानकारी दी है।

उल्लेखनीय है कि बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड द्वारा पिछले वर्षों अपने संचरण लाइनों में बेहतर सुरक्षा के साथ-साथ विद्युत एवं डाटा संचार के उद्देश्य से परंपरागत Earth Wire के स्थान पर नवीनतम तकनीकी के Optical Fibre Ground Wire (OPGW) को लगाया गया। पूरे राज्य में लगभग 7800 किलोमीटर संचरण लाइनों पर OPGW का विस्तृत नेटवर्क का अधिष्ठापन किया जा चुका है।

Also Read-

इस OPGW के माध्यम से विद्युत संचरण संबंधी महत्वपूर्ण सूचनाओं एवं आंकड़ों का रियल टाइम बेसिस पर राज्य भार प्रेषण केंद्र (SLDC) को संचार किया जाता है। जिससे पूरे राज्य की विद्युत संचरण व्यवस्था एवं 24 x 7 विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाती है। OPGW में प्रयुक्त अतिरिक्त फाइबर का इस्तेमाल टेलीकॉम कंपनियों को टेलीकॉम कंपनियों को लीज कर दूरसंचार हेतु भी किया जा सकेगा। इससे राज्य की ट्रांसमिशन कंपनी के आय में भी वृद्धि होगी।

ऊर्जा मंत्री ने बताया कि बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड के इस उपलब्धि से न केवल राज्य में दूरसंचार आधारभूत संरचना का सुदूरवर्ती इलाके में विस्तार होगा बल्कि राज्य की संचरण कंपनी को अतिरिक्त आय का स्रोत भी उपलब्ध होगा।

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने राज्य योजना के तहत् संचरण लाइनों में OPGW अधिष्ठापन की विस्तृत योजना गत वर्षो में सुकृत की थी, जिसे अब पूर्ण कर लिया गया है, साथ ही नए संचरण लाइनों में भी OPGW अधिष्ठापन का कार्य किया जा रहा है। इससे राज्य में दूरसंचार तकनीकी को एक नई दिशा मिलेगी साथ ही विद्युत कंपनियों के गुणवत्तापूर्ण कार्य क्षमता में प्रभावी वृद्धि भी होगी।

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -