29.1 C
Delhi
Homeबिहारबक्सरबक्सर : 6 कॉलेज का नाम पोर्टल पर नहीं रहने से गरीब...

बक्सर : 6 कॉलेज का नाम पोर्टल पर नहीं रहने से गरीब छात्र-छात्राओं के समक्ष स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड की समस्या

- Advertisement -

बक्सर,9 सितम्बर(विक्रांत)। शिक्षा विभाग के पोर्टल पर बक्सर जिला के आधा दर्जन कॉलेज का नाम अंकिंत नहीं रहने के चलते गरीब छात्र-छात्राओं के समक्ष शिक्षा ऋण को स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड निर्गत कराने की ज्वलंत समस्या उत्पन्न हो गई है। जिला निबंधन एवं परामर्श केन्द्र में स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड निर्गत कराने ऑनलाईन आवेदन करने के लिए इन दिनों छात्र छात्राओं की लंबी कतार लगी रहती है।

लेकिन सरकारी पोर्टल पर अब तक डुमरांव के सुमित्रा महिला कॉलेज, धनसोई के जनता कॉलेज,पी.सी.कॉलेज,बक्सर एवं डी.के.एम.डुमरी के कॉलेज का नाम शिक्षा विभाग के पोर्टल पर उपलब्ध नहीं है।नतीजतन,स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड के लिए ऑनलाईन आवेदन हेतु जिला निबंधन कार्यालय एवं परामर्श केन्द्र से उक्त कॉलेज के नामांकित छात्र छात्राओं को मायूश होकर वापस लौटना पड़ता है।

जिला निबंधन कार्यालय के एसडब्लूओ प्रबोध कुमार ने बताया कि फिलवक्त एम.भी.कॉलेज बक्सर,डी.के.कॉलेज डुमरांव, कृषि महाविद्यालय डुमरांव, एलबीटी कॉलेज बक्सर, के.के.मंडल कॉलेज बक्सर एवं एम सी कॉलेज चौसा का नाम शिक्षा विभाग के पोर्टल पर अंकित है।

उक्त कॉलेज के छात्र छात्राओं को उच्च शिक्षा के सामान्य पाठ्यक्रमों, विभिन्न व्यवसायिक एवं तकनिकी पाठ्यक्रमों के लिए बिहार राज्य शिक्षा वित निगम के माध्यम से शिक्षा ऋण उपलब्ध कराए जाने के लिए स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड निर्गत करने हेतु ऑनलाईन आवेदन जमा करने का क्रम जारी है।

‘जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (शिक्षा विभाग) का कथन‘
शिक्षा विभाग के पोर्टल पर आधा दर्जन कॉलेज का नाम पोर्टल पर नहीं रहने के बावत पूछे जाने पर जिला कार्यक्रम पदाधिकारी(शिक्षा) सह स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड के नोडल पदाधिकारी प्रबोध कुमार ने बताया कि पोर्टल पर किसी भी कॉलेज का नाम शिक्षा माध्यमिक निदेशालय द्वारा अंकित रहता है।

उन्होनें बताया कि जिस कॉलेज का नाम शिक्षा विभाग के पोर्टल पर अकिंत नहीं है। उस कॉलेज के छात्र छात्राओं का आवेदन ऑनलाईन नहीं हो सकता है। इस संबध में जरूरतमंद छात्र छात्राएं संबधित कॉलेज के प्राचार्य से संर्पक स्थापित करे। कॉलेज प्रबंधन अपनी शिकायत सीधे शिक्षा विभाग के प्राथमिक-माध्यमिक शिक्षा निदेशालय, विश्व विद्यालय प्रबंधन से कर सकता है। आवश्यकतानुसार उन्हें भी शिकायत पत्र भेज सकता है।

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -