11.1 C
Delhi
Homeबिहारबक्सरबिहार सरकार के पूर्व मंत्री बसंत सिंह पुण्य-तिथि समारोह में याद किए...

बिहार सरकार के पूर्व मंत्री बसंत सिंह पुण्य-तिथि समारोह में याद किए गए

- Advertisement -

वक्ताओं ने कहा-पूर्व मंत्री स्व. बसंत सिंह एक राजनीतिक संत थे, उनके व्यक्तित्व व कृतित्व से सीख लेने की जरूरत है

बक्सर/विक्रांत। डुमरांव के तीन बार विधायक रहे व बिहार सरकार के पूर्व भवन निर्माण मंत्री स्व.बसंत सिंह की पुण्य-तिथि बुधवार को स्थानीय नगर के एक प्राईवेट विद्यालय परिसर में समारोह पूर्वक मनाई गई। आयोजित पुण्य तिथि समारोह में प्रबुद्ध नागरिको सहित सर्वदलीय कार्यकर्ताओं ने कोरोना गाईड लाईन का अनुपालन करते हुए शिरकत किया।

मौंके पर आयोजित समारोह को राजद नेंता चैतन्य सिंह,राजद के बद्री सिंह, अजात शत्रु सिंह, लोजपा के सीताराम सिंह,कीर्तिमान सिंह,जद यू के बीरेन्द्र सिंह, रेडक्रास सोसाईटी के पूर्व सचिव मोहन गुप्ता,डी. के.कालेज के पीटी शिक्षक अजीत कुमार सिंह,पत्रकार ललन गोड़, सामाजिक कार्यकर्ता मनोज कुमार सिंह उर्फ राज सिंह,बिशेश्वर सिंह, राजद के जगनारायण सिंह,अखिलेश कुमार यादव,गायक महेन्द्र सिंह यादव, कांग्रेसी नेंता मदन चैबे, जदयू के बिनोद राय,बड़क सिंह,सीपीआई नेंता ओमप्रकाश सिंह,भटौली मुखिया भोला सिंह,जद यू नेंता नथुनी प्रसाद खरवार,नगर परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष चुनमुन प्रसाद वर्मा, करमू साह, बिहारी साह, सामाजिक कार्यकर्ता अलीम हाशमी, राजकुमार राम,रामेश्वर सिंह,एकरामुदीन, मो. शहाबुदीन, ओंकार नाथ पांडेय,बिनोद मास्टर एवं बड़क सिंह आदि ने संबोधित किया।

वक्ताओें ने कहा कि वे एक राजनीतिक संत थे।उन्होनें जीवन पर्यंत समाज के अतिंम पावदान पर खड़े लोगों के विकास को लेकर संर्घष करते रहे। वक्ताओें नें पूर्व मंत्री बसंत सिंह के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला और कहा कि स्व.बसंत सिंह का राजनीतिक जीवन बेदाग था। उनके राजनीतिक जीवन से आज के राजनीतिक कार्यकर्ताओं को सीख लेने की जरूरत है। पुण्य-तिथि समारोह की अध्यक्षता स्व. सिंह के बड़े भाई भाजपा व किसान नेंता रणजीत सिंह‘राणा‘ ने किया। संचालन सामाजिक कार्यकर्ता प्रदीप शरण ने की।

समारोह के समापन पर धन्यवाद ज्ञापन मुन्ना खां ने किया। इसके पहले समारोह में शिरकत करने वाले प्रबुद्ध जनों व विभिन्न राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओ ने स्व. सिंह के तैल्य चित्र पर फूल-माला अर्पित कर उन्हें नम् आंखो से याद किया।

यह भी पढ़े…

- Advertisement -






- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -