15.1 C
Delhi
Homeबिहारबक्सरअनूठा : मां से दो कदम आगे छलांग लगा बेटी आयूषी किरण...

अनूठा : मां से दो कदम आगे छलांग लगा बेटी आयूषी किरण बनी नारी स्वावलंबन की मिशाल

- Advertisement -

प्रथम डाक्टरेट की उपाधी लेने वाली बहू की बेटी ने आयूषी किरण ने एमफील करने के बाद दिल्ली स्कूल आफ इकोनोमी में पीएचईडी के लिए पाया दाखिला

बक्सर/विक्रांत। आप मानेें अथवा नहीं मानें। पर यह कथन कटु सत्य है।अगर किसी पुरूष को पढ़ाते है तो वह खुद के लिए पढ़ता है। पर किसी महिला को पढ़ाते है तो उससे पूरा परिवार शिक्षित होता है। एक महिला तीन पिढी तक को कामयाबी दिलाने की क्षमता रखती है। इसकी मिशाल डुमरांव नगर की एक बहू है।ससुराल में नन मैंट्रिक बहू बनकर उषा किरण आई। पर ससुराल में पढ़ लिखकर बक्सर के पोलटेक्निक कालेज में अग्रेंजी बिषय की प्रोफेसर बन गई।

इनकी कामयाबी की चर्चा शांत भी नहीं हुई थी।इसी बीच प्रो.(डा.)उषा किरण से उनकी बेटी आयूषी किरण नें दो कदम आगे छलांग लगा दी।बेटी नें दिल्ली विश्व विद्यालय से गत साल 2018 में नेट जेआरएफ व एसआरएफ की प्रतियोगिता परीक्षा पास करने के बाद एम.फील.पूरा किया और इस साल 2022 में ‘दिल्ली स्कूल आॅफ इकोनोमी‘ में पीएचईडी के लिए दाखिला पाने में कामयाब हो गई।

जब कि मां उषा किरण ने वीर कुंअर सिंह विश्व विद्यालय,आरा से अग्रेंजी बिषय से स्नातकोतर की परीक्षा अव्वल दर्जा से पास किया था। बाद में नेट की परीक्षा पास करने के बाद पीएचईडी की डिग्री हासिल किया था।

‘खुद हार नहीं मानी और बेटी को भी दिलाई उच्च शिक्षा‘
स्थानीय नगर के ठठेरी बाजार (अब स्टेशन रोड) निवासी शिक्षित स्नातक पास युवक जयप्रकाश गुप्ता की शादी ब्रहपुर की नन मैट्रिक बेटी उषा किरण के साथ हुई थी। नन मैंट्रिक पत्नी के अंदर आगे पढ़ने की लालसा देख पति ने पत्नी को उच्च शिक्षा दिलाने की ठान ली।

पारिवारिक बंदिशों के बीच उषा किरण दो पुत्र व एक पुत्री की मां बन गई। पर अपनी पढ़ाई पर आंच नहीं आने दी। पति के सहयोग से उषा किरण एक मां के रूप में अपने तीनों संतान की परवरिश करते हुए शिक्षा दिलाने से नहीं चूक सकी। अपने जीवन काल में कई उतार चढ़ाव के बीच उषा किरण शिक्षा की रौशनी से रौशन होती गई। शक्ति स्वरूपा दृढ इच्छा शक्ति रखने वाली उषा डुमरांव की प्रथम डाक्टरेट की उपाधी पाने वाली महिला बन गई।

आज की तारीख में बक्सर के इटाढ़ी स्थित पोलटेक्निक कालेज मे प्रोफेसर के रूप में कार्यरत है। बेटी आयूषी की कामयाबी पर मां-पिता सहित पूरा परिवार व डुमरांव नगर के नागरिक गौरवान्वित महसूस करते है। अन्य दो पुत्रों में पहला अरूण कुमार एमबीए की शिक्षा ग्रहण करने के बाद हीरो ग्रुप्स में एचआर एवं दुसरा पुत्र अभिषेक एमबीए- फार्मा की डिप्लोमा की पढ़ाई के साथ सर्वियर कंपनी में कार्यरत है।वहीं डा.उषा किरण की छत्र-छाया में पली बढ़ी व शिक्षा ग्रहण करने वाली भतिजी निशा कुमारी ने पटना स्थित ए एन कालेज में रसायन विज्ञान की प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है।

- Advertisement -






- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -