39 C
Delhi
Homeबिहारबक्सरडुमरांव में मां बसवनी का वार्षिक पूजनोत्सव संपन्न

डुमरांव में मां बसवनी का वार्षिक पूजनोत्सव संपन्न

- Advertisement -spot_img

डुमरांव/बक्सर(अरूण विक्रांत): नगर के चारो कोने पर अवस्थित विभिन्न देवी देवताओ के मंदिरों में प्रसिद्ध कांव नदी के तट पर अवस्थित मां बसवनी का वार्षिक श्रृंगार एवं पूजनोत्सव धूम-धाम के साथ मनाया गया। पूजनोत्सव के मौके पर पूजा अर्चना को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ सुबह से देर रात तक उमड़ी रही। इस मौके पर नगर के हरेक चैक-चैमुहाने पर ध्वनि-विस्तारक यंत्र पर बजते भक्ति गीत संगीत से नगर का वातावरण भक्तिमय बना रहा। मंदिर प्रांगण में परम्परागत तौर लगे मेले का अभिभावको के साथ पंहुचे बच्चे-बच्चियों ने जमकर लुत्फ उठाया और मेले बिक रहे जलेबी एवं चाट का भी स्वाद लिया।


कुश्ती प्रतियोगिता- मां बसवनी के पूजनोत्सव पर परम्परागत तौर पर पूजा आयोजन समिति के सौजन्य से महिला एवं पुरूष कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कुश्ती प्रतियोगिता के अखाड़ा का उद्घाटन चेयरमैन प्रतिनिधि पूर्व नप चेयरमैन मोहन मिश्रा, वार्ड पार्षद सोनू राय, पार्षद प्रतिनिधि बाबा यादव, मदन चैबे ने संयुक्त रूप से फीता काटकर उद्घाटन किया।

इस कुश्ती प्रतियोगिता में दुर-सुदूर इलाके के जाने माने कुश्ती के माहिर खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। जिसमें आरा की नीतू यादव बनाम डुमरी बक्सर की अन्तिमा कुमारी, भोजपुर की अनु यादव बनाम डुमरी की आरती कुमारी, विक्रमगंज के धर्मेन्द्र बनाम बक्सर के अभिषेक कुमार, जीतौरा के राजमंगल बनाम आरा के बिंदु कुमार, आरा के रोहित कुमार बनाम डुमरी के विकास कुमार एवं लालगंज के विवेक कुमार बनाम लव जी डुमरी आदि के बीच शानदार कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन हुआ।

रेफरी की भूमिका पहलवान अरूण सिंह ने निभाई। कुश्ती देखने को लेकर क्षेत्र के कुश्ती प्रेमियों की भीड़ लगी रही। कुश्ती प्रतियोगिता के दरम्यान डुमरी, मुगांव, कोपवां, डुमरांव, कोआथ, नावानगर एवं गाजीपुर क्षेत्र के कई जोड़ा का अखाड़े में शानदार प्रदर्शन हुआ। नगर के घनी आबादी से दो किलो मीटर दूरी पर मंदिर की मौजूदगी के बावजूद आस्थावानों की भीड़ उमड़ी रही। पूजा सह कुश्ती प्रतियोगिता के आयोजन में सत्येन्द्र पहलवान, संतोष यादव, सुरेन्द्र सिंह, राजू सिंह, मनोज यादव, राकेश मिश्रा, पप्पू यादव, धनजी यादव एवं प्रमोद राय की भूमिका सराहनीय बताया गया।


मंदिर की स्थापना- मंदिर की स्थापना को लेकर किदवंती है कि काफी दिनों पहले पूरे देश में महामारी एवं प्लेग के प्रकोप को लेकर त्राहिमाम मचा हुआ था। उसी दरम्यान नगर के आस्थावानों द्वारा कांव नदी के तट पर प्रकृति की अनुपम छटा विखेरते स्थान पर शक्ति की आराधना को लेकर मां बसवनी की स्थापना की गई थी।जो अब तक परम्परागत तौर पर पूजा अर्चना का अनवरत क्रम जारी है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -