केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने डुमरांव स्टेशन पर शहनाई सम्राट विस्मिल्ला खां के तैल्य चित्र का किया अनावरण

0
391

बक्सर(अरूण विक्रांत): क्षेत्रीय सांसद सह केन्द्रीय स्वास्थ राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने शुक्रवार को डुमरांव रेलवे स्टेशन पर भारत रत्न उस्ताद विस्मिल्ला खां की तैल्य-चित्र का अनावरण किया। सादे समारोह के बीच बक्सर के सांसद सह केन्द्रीय मंत्री चौबे ने शहनाई सम्राट के चित्र का अनावरण के पश्चात स्थानीय नागरिको सहित यात्रियों के बीच डुमरांव रेलवे स्टेशन पर महज एक ट्रेन मडुआडीह-पटना सुपरफास्ट एक्सप्रेस का ठहराव जल्द कराने का आश्वासन दिया।

सांसद के आश्वासन एवं घोषणा को सुनकर मौके पर मौजूद स्थानीय नागरिक एवं रेल यात्री आवाक रह गए। चूंकि स्थानीय नागरिको के बीच लंबित मांगों में पटना-कोटा,संघमित्रा एक्सप्रेस एवं पटना-कुर्ला एक्सप्रेस ट्रेनों की ठहराव को लेकर सांसद सह केन्द्रीय मंत्री चौबे द्वारा पूर्ति कराए जाने को लेकर उम्मीद बनी हुई थी।पर क्षेत्रीय सांसद सह केन्द्रीय मंत्री चौबे के द्वारा डुमरांव रेलवे स्टेशन के अन्य विकास कार्यो सहित ट्रेनो के ठहराव के बावत किसी तरह का जिक्र अपने संबोधन में नहीं किया।

भले ही क्षेत्रीय सांसद ने टुड़ीगंज स्टेशन पर करोड़ो की लागत से फुट ओभरब्रीज,रघुनाथपुर रेलवे स्टेशन पर फुट ओभर-ब्रीज के निर्माण कराए जाने के मामले का प्रस्तावित रहने का जिक्र जरूर किया। साथ ही बक्सर रेलवे स्टेशन का आधुनिक विकास कराए जाने की योजना का भी जिक्र किया। क्षेत्रीय सांसद सह केन्द्रीय मंत्री द्वारा चिर-प्रतिक्षित मांगो के बावत चुप्पी साधे रहने पर स्थानीय नागरिको ने सांसद के प्रति नाराजगी व्यक्त किया और कहा कि क्षेत्रीय सांसद ने डुमरांव की अनदेखी करने का काम किया है।

डुमरांव रेल यात्री कल्याण समिति के अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह ने कहा कि बक्सर और आरा रेलवे स्टेशन के बाद डुमरांव रेलवे स्टेशन से सबसे अधिक राजस्व की प्राप्ति रेलवे प्रबंधन को होता है। लेकिन यहां यात्रियो की कई बुनियादी समस्या एक अर्से से मौजूद थे।

वहीं डुमरांव के सामाजिक कार्यकर्ता शम्मी हाशमी, मोहन गुप्ता,उमेश गुप्ता, संजय कुमार, महेन्द्र केशरी, के.के.केशरी, परवेज अख्तर, दिलीप कुमार, श्रद्धानंद तिवारी, तुलसी तिवारी एवं डा. अजय सिंह ने रेलवे प्रबंधन के प्रति असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि दानापुर रेल मंडल प्रबंधन एवं सांसद सह केन्द्रीय मंत्री चौबे ने कभी डुमरांव रेलवे स्टेशन की बुनयादी जरूरतो की ओर खास ध्यान नहीं दिया।