वंचितों को मिल रही स्वास्थ्य की विश्वस्तरीय सेवा- राज्यपाल

0
61

बक्सर/अजय राय: भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग के द्वारा लगाए गए दो दिवसीय स्वास्थ्य महाकुंभ का समापन शनिवार को हो गया. इस महाकुंभ में तकरीबन 10 हज़ार लोगों ने अपने आरोग्य के निहित सेवाएं प्राप्त की. कार्यक्रम के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन मौजूद रहे. साथ ही विशिष्ट अतिथि के तौर पर ग्रामीण एवं जल संसाधन विकास मंत्री रामकृपाल यादव मौजूद रहे. कार्यक्रम की अध्यक्षता स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री सह बक्सर सांसद अश्विनी कुमार चौबे ने की.

कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि इस आयोजन के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी चौबे बधाई के पात्र हैं. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवा समाज की बहुत बड़ी सेवा है. इसके लिए चिकित्सकों तथा आयोजनकर्ता बधाई के पात्र हैं. उन्होंने कहा कि आज देश समाज एवं राज्य बदल रहा है. पहली बार उस वर्ग को स्वास्थ्य की तमाम सुविधाएं मिल रही है जो वर्ग सदैव इससे वंचित रहा है.

राज्यपाल ने कहा कि अपने बड़े राजनीतिक जीवन में उन्होंने महसूस किया है कि आज का भारत विकास की ओर अग्रसर है. आज के भारत में लोहिया तथा पंडित दीनदयाल उपाध्याय के सपनों को साकार किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि आज सभी लोगों को शौचालय के रूप में उनका सम्मान दिया जा रहा है. साथ ही साथ जिन्होंने कभी सपने में पक्के मकान की कल्पना नहीं की थी उन्हें भी उनका मकान दिया जा रहा है.

उन्होंने बताया कि आज रोजगार के अवसर बढ़े हैं. सरकार की तरफ से चलाई जा रही हुनर योजना के तहत कोई भी बेरोजगार प्रशिक्षण प्राप्त कर रोजगार को प्राप्त कर सकता है. उन्होंने बताया कि गरीब अब ऊपर उठ रहे हैं तथा वह लोग जो ऊपर है वह और ऊपर जा रहे हैं. उन्होंने लोगों से अपील की कि वह अपना काम ईमानदारी से करें तथा देश हित के लिए कार्य करते रहे. उन्होंने कहा कि लोग देश के लिए समर्पण से कार्य कर रहे हैं. लेकिन अभी और भी कार्य करने की आवश्यकता है. पुलवामा हमले के संदर्भ में बोलते हुए राज्यपाल ने कहा कि भारत ने जब अपना स्वरूप दिखाया तो पाकिस्तान की हालत खराब हो चुकी है.

मौके पर ग्रामीण विकास मंत्री रामकृपाल यादव ने बोलते हुए कहा कि बिहार में गरीबों को संख्या अधिक है. उन्हें स्वास्थ्य सेवाओं को प्राप्त करने में काफी कठिनाई होती है. काफी लोग इलाज के अभाव में दम तोड़ देते हैं. ऐसे में यह ऐसा अवसर उन्हें मिला है कि जिससे वे लाभान्वित हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि इस अवसर का लाभ बक्सर के विभिन्न इलाकों से आए लोगों को मिला है. भारत एवं बिहार सरकार अब जमीनी स्तर पर कार्य कर रही है.

अपने अध्यक्षीय भाषण में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने की दिशा में सरकार की तरफ से पटना एम्स बनाया गया है. बक्सर के अस्पतालों में अगर किसी मरीज का इलाज नहीं हो सकता तो वह टेलीमेडिसिन से जुड़ कर भी देश के प्रतिष्ठित अस्पतालों में अपना इलाज करा सकता है. उन्होंने कहा कि केंद्र तथा बिहार सरकार के सहयोग से विकास की धारा बहाई जा रही है जो अविरल बहती रहेगी. अंत में उन्होंने लोगों के निरोगी जीवन की कामना करते हुए अपनी बात को समाप्त किया.

कार्यक्रम के दौरान चित्रकला तथा वाद-विवाद प्रतियोगिता में शामिल प्रतिभागियों, लैब ऑन बाइक तथा ब्रेस्ट कैंसर जैसे रोगों से पीड़ित रोगियों का इलाज करने वाली टीम तथा स्वास्थ्य कर्मियों को राज्यपाल के हाथों सम्मानित भी किया गया. इसके पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत में जहां स्वागत भाषण जिलाधिकारी राघवेंद्र सिंह ने किया.

वहीं कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन आरक्षी अधीक्षक उपेंद्र नाथ वर्मा ने किया. कार्यक्रम के दौरान सिविल सर्जन के.के. लाल, अस्पताल प्रबंधक दुष्यंत कुमार, रेड क्रॉस के चेयरमैन डॉ. आशुतोष कुमार सिंह, उपाध्यक्ष डॉ. शशांक शेखर, सचिव डॉ. श्रवण तिवारी, आपदा प्रबंधक डॉ. हनुमान अग्रवाल, भाजपा नेता अर्जित चौबे, अविरल शाश्वत चौबे, प्रदीप दुबे, विश्वनाथ राम, नितिन मुकेश समेत कई लोग मौजूद रहे.

चप्पे-चप्पे पर की सुरक्षा की व्यवस्था:

राज्यपाल के आगमन को लेकर किला मैदान के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम थे. राज्यपाल का आगमन तकरीबन 2:30 बजे हुआ तथा कार्यक्रम की समाप्ति लगभग 4:15 बजे हुई.किला मैदान में प्रवेश कर रहे लोगों को मुख्य द्वार से ही जांच करने के बाद अंदर प्रवेश करने दिया जा रहा था. व्यवस्था की कमान अनुमंडल पदाधिकारी कृष्ण कुमार उपाध्याय एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सतीश कुमार संभाल रहे थे. मंच के चारों तरफ घेरा बना कर डीआईयू के महिला तथा पुरुष सदस्य तैनात रहे.