चंपारण: रिश्वत लेते निगरानी ने नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी को दबोचा

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा: पश्चिम चम्पारण जिला के रामनगर नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी जितेंद्र कुमार सिन्हा को 20 हज़ार रुपये रिश्वत लेते निगरानी की विशेष टीम ने गिरफ्तार किया। नगर परिषद कर्मी के लंबित वेतन भुगतान व योजनाओं में कमीशन के एवज में कार्यपालक पदाधिकारी रिश्वत लेने की बात सामने आई है। रिश्वत नहीं देने पर गुणवत्ता पर सवाल उठाने का मामला। शिकायत के बाद पटना से पहुंची निगरानी की टीम ने नगर पंचायत कार्यालय से जितेंद्र कुमार सिन्हा को गिरफ्तार किया है, पूछताछ के बाद निगरानी की टीम जब कार्यपालक पदाधिकारी को अपने साथ ले जाने लगी तो वार्ड आयुक्तों की आपाधापी में गिरफ्तार पदाधिकारी के फरार होने की खबर है।



बकाया वेतन के लिए मांगते रहे रिश्वत

इस कार्रवाई को लेकर डीएसपी निगरानी सर्वेश कुमार के हवाले से खबर है कि नगर पंचायत में टैक्स लिपिक से पद पर काम करनेवाले एक कर्मी की तीन वर्ष से लंबित वेतन भुगतान कराने के लिए नगर पंचायत का चक्कर लगाते रहे। इसी दौरान नगर पंचायत के ईओ ने उनसे पेंडिंग वेतन पास कराने के लिए 20 हजार रुपयों की मांग की। शुक्रवार को टीम ने ईओ को पैसे लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया। रामनगर की यह कोई पहली घटना नहीं है पूर्व में भी कई पदाधिकारी निगरानी के हत्थे चढ़े लेकिन फिर भी सुधरने का नाम नहीं ले रहे पदाधिकारी।

  • फरार हुए पदाधिकारी

रामनगर से मिली दूसरी खबर के अनुसार निगरानी के हत्थे चढ़े कार्यपालक पदाधिकारी जीतेन्द्र कुमार सिन्हा को वार्ड आयुक्तों ने छुड़ा लिया और वे फरार हो गए हैं।