चंपारण: लीची उत्पादन में बिहार के मुजफ्फरपुर एवं चंपारण जिला हैं अग्रणी- डीएम

मोतिहारी / राजन दत्त द्विवेदी: जिले के अरेराज अनुमंडल में आम- लीची फसल उत्पादन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन जिला पदाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक एवं गोविंदगंज विधायक सुनील मणी तिवारी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए डीएम श्री अशोक ने कृषि के महत्व को बताते हुए कहा कि कृषि के क्षेत्र में विशेष ध्यान देने की जरूरत है। क्योंकि कृषि सभी क्षेत्रों को जोड़ता है।

अर्थात कृषि का विकास से अन्य विकास संबंधित है। उन्होंने कहा कि बिहार में लीची उत्पादन में मुजफ्फरपुर एवं चंपारण दोनों ही जिले की अग्रणी भूमिका है। भारत में सबसे ज्यादा बिहार लीची का उत्पादन करता है। अतः लीची फसल उत्पादन के तकनीकी पहलुओं पर विशेष ध्यान दिया जाए। कहा कि लीची फसल एक अल्प अवधि वाला फसल है। इसलिए इस अल्प अवधि में लीची का प्रोसेसिंग, प्रोडक्शन, ट्रांसपोर्टेशन पर विशेष ध्यान दिया जाए, ताकि उसका ट्रांसपोर्टेशन कर एक स्थान से दूसरे स्थान पर सही समय पर चला जाए।

लीची फसल के साथ मछली पालन, मधुमक्खी पालन, गाय पालन आदि मे भी मोतिहारी जिला आगे बढ़ सकता है। सकता उन्होंने कहा कि सरकार की कृषि से संबंधित योजनाएं हैं उसका लाभ किसान अवश्य उठाएं। सरकारी लाभ से उन्नत किस्म के बीज और अन्य संसाधन की आपूर्ति होती है। जिससे किसानों की कृषि पैदावार दोगुना और आमदनी भी अच्छी होगी। मौके पर अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल के सभी पदाधिकारी, जिला उद्यान पदाधिकारी, पीडी आत्मा एवं लीची उत्पादन, मछली उत्पादन एवं अन्य किसान उपस्थित थे।