चंपारण: नल-जल योजना में अनियमितता के आरोप में सात मुखिया को पदच्युत करने का प्रस्ताव

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा: जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार ने गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिला में क्रियान्वित नल-जल योजना की अद्यतन स्थिति की गहन समीक्षा किया। समीक्षा के क्रम में जिला पदाधिकारी ने नल-जल योजना के क्रियान्वयन में अनियमितता एवं लापरवाही बरतने को लेकर योगापट्टी प्रखंड के पिपरा नौरंगिया, सिसवा भूमिहार, नरकटियागंज के कुकुरा, रखही चम्पापुर, राजपुर तुमकड़िया, गौनाहा प्रखंड के मंझरिया पंचायत के मुखिया के विरुद्ध विभाग को बिहार पंचायती राज अधिनियम, 2006 की धारा 18(5) के तहत पदच्युत करने का प्रस्ताव भेजने का निदेश दिया है।



मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना अन्तर्गत नल-जल योजना अति महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना के माध्यम से सभी वर्ग के लोगों को आच्छादित किए जाने का लक्ष्य निर्धारित है। जिला प्रशासन लगातार इस दिशा में बैठकों के माध्यम से प्रगति की समीक्षा की जा रहा है। आगामी गर्मी के मौसम को ध्यान में रखते हुए भी इसकी समीक्षा किया जा रही हैं, जिससे सभी योजनाएं भौतिक रूप से क्रियान्वित हो सके और किसी को भी पानी की समस्या का सामना नहीं करना पड़े। उन्होंने कहा कि नल-जल योजना से एक-एक लाभुक को गरिमापूर्ण तरीके से आच्छादित करने का लक्ष्य है। इस योजना को समयबद्ध तरीके से गुणवत्तापूर्वक सम्पन्न कराने के लिए अनुश्रवण करने की जिम्मेवारी संबंधित मुखिया एवं वार्ड एवं क्रियान्वयन समिति की है, जिसमें ये लोग विफल रहे है, जो निष्फल व्यय का द्योतक है तथा योजना की धारा 6.2, 4.5.2, 4.5.2(च) एवम 4.4 का स्पष्ट उल्लंघन है।

संबंधित वार्ड एवं क्रियान्वयन समिति के सदस्यों के विरूद्ध भी प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। साथ ही संबंधित पंचायत के पंचायत सचिव के विरूद्ध कठोर अनुशासनिक कार्रवाई करने का निदेश दिया गया है। विगत दिनों में नौतन, नरकटियागंज, चनपटिया, बगहा-1, गौनाहा और मझौलिया में 1592 योजनाओं की जांच प्रशासनिक पदाधिकारी और तकनीकी पदाधिकारी से कराई गयी और प्रतिवेदन के आलोक में विधि-सम्मत कार्रवाई का निर्देश प्रखंड विकास पदाधिकारी को दिया गया। इसकी समीक्षा के दौरान जिला पदाधिकारी ने सभी संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी को स्वयं योजनाओं का निरीक्षण कर, निराकरण कराने का निर्देश दिया।

पर्याप्त समय एवं बारम्बार चेतावनी के बावजूद जिनके द्वारा सुधार नहीं किया जाता है तो उनके विरुद्ध विधि-सम्मत कार्रवाई करने का निर्देश दिया। जिला पदाधिकारी ने नल-जल योजनाओं की अभिलेखीकरण की समीक्षा के दौरान कम उपलब्धि वाले प्रखंड यथा बगहा-1, मधुबनी, चनपटिया, नौतन के प्रखंड विकास पदाधिकारी को विशेष अभिरुचि लेकर, कैम्प मोड में प्रगति लाने का निर्देश दिया। अन्य प्रखंड विकास पदाधिकारियों को भी शत-प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त करने का निर्देश दिया। सभी को निर्देश दिया कि वे अभिलेख के साथ लाभुकों के फोटोग्राफ्स भी संलग्न करें। जिला पदाधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि योजना को गुणवत्तापूर्ण तरीके से सम्पन्न नहीं कराने पर विधिसम्मत कठोर कार्रवाई कर सुनिश्चित रुप से सूचित करें।