मुजफ्फरपुर : कैश वैन लूट कांड का हुआ उद्भेदन, कई अपराधकर्मी गिरफ्तार

मुजफ्फरपुर/अभय राज: 22 नवंबर 2020 को दिन में करीब 11:00 बजे सरैया थाना अंतर्गत मुजफ्फरपुर छपरा एनएच बखरा के निकट secure value कंपनी के कैश बैंक को अपराध कर्मियों द्वारा लूटने का प्रयास किया गया. कैश वैन पर गोलीबारी कर ड्राइवर को जख्मी कर दिया गया. इस क्रम में पुलिस पदाधिकारी जो उस रास्ते से गुजर रहे थे ,के द्वारा हल्ला करने एवं त्वरित सूचना दिए जाने पर सरैया थाना की गस्ती मोबाइल कुछ मिनटों में ही घटनास्थल पर पहुंच गई. जिससे कैश वैन की लूट की घटना को असफल कर दिया गया. घटना में कैश वैन का चालक गोली लगने से गंभीर रूप से जख्मी हो गया. जिसे इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया गया.उक्त घटना के पश्चात वरीय पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सरैया,प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षक,सरैया थाना अध्यक्ष एवं अन्य पदाधिकारी को सम्मिलित कर घटना का सफल उद्भेदन एवं संलिप्त अपराध कर्मी की गिरफ्तारी हेतु एक विशेष टीम का गठन किया गया.



बुधवार की शाम को गुप्त सूचना के आधार पर गठित विशेष टीम द्वारा सरैया थाना अंतर्गत अंबारा चौक पर छापेमारी कर अपराध की योजना बनाते हुए 4 अपराध कर्मियों को अवैध हथियार व कारतूस, मारुति कार के साथ गिरफ्तार किया गया. गिरफ्तार अपराध कर्मियों से सघन पूछताछ करने पर माह नवंबर में सरैया थाना अंतर्गत 5 करोड़ 25 लाख रुपया ले जा रहे सिक्योरवैल्यू कंपनी के कैश वैन लूट के प्रयास का खुलासा हुआ. गिरफ्तार अपराध कर्मियों ने उक्त घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार करते हुए बताया कि घटना की योजना घटना करने से लगभग 1 माह पूर्व बनाए थे.घटना की तिथि को इको स्पोर्ट कार एवं ग्लैमर मोटरसाइकिल से घटना कार्य करने के लिए करीब 8:00 बजे सुबह में पूरे गिरोह के साथ सोनपुर से हाजीपुर होते हुए सरैया थाना अंतर्गत मानिकपुर चौक के आगे पहुंचकर कैश वैन का इंतजार करने लगे.

इन लोगों को पक्की जानकारी थी कि कैश वैन में करोड़ों की रकम है. जो मुजफ्फरपुर से छपरा जाने वाली है. लगभग 10:30 बजे कैश वैन मुजफ्फरपुर से आती हुई दिखी. यह लोग कार एवं ग्लैमर मोटरसाइकिल पर सवार होकर कैश वैन को ओवरटेक करके उसे रोकने हेतु ताबड़तोड़ गोली फायरिंग करने लगे. लेकिन कैश वैन नहीं रुकी.और सड़क किनारे गड्ढे में उतर गई. इसी बीच अचानक बहुत सारे स्थानीय लोग हल्ला करते हुए इनके तरफ दौड़ने लगे.उसी समय एक पुलिस गाड़ी आती दिखी तो कैसे बैंक लूटने का इरादा छोड़कर कार एवं मोटरसाइकिल से पश्चिम दिशा होते हुए लालगंज की ओर भाग गए.गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ एवं अग्रिम छापेमारी के क्रम में घटना में शामिल दो अन्य अपराध कर्मियों को गिरफ्तार किया गया.

गिरफ्तार अपराध कर्मियों की पहचान सारण जिले के अली राजा,संदीप कुमार, विवेक कुमार, साबिर अली, नसीम अहमद और वैशाली जिले के धर्मवीर उर्फ छोटा के रूप में हुई है.

बता दें कि उपरोक्त गिरफ्तार अपराधी कर्मी अली राजा वर्ष 2018 में आर्म्स एक्ट के कांड में जेल जा चुका है. वहीं अपराध कर्मी विवेक कुमार राम करीब 5 वर्ष पूर्व हाजीपुर में आर्म्स एक्ट के कांड में जेल जा चुका है.वही साबिर अली वर्ष 2016 में सोनपुर थाना से आर्म्स एक्ट में जेल जा चुका है.

गिरफ्तार अपराध कर्मियों द्वारा सारन जिला के गरखा थाना क्षेत्र अंतर्गत वर्ष 2019 में गठित इलाहाबाद बैंक लूट की घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है. इसके अतिरिक्त गिरफ्तार अपराध कर्मी का अन्य अपराधिक इतिहास ज्ञात की जा रही है. गिरफ्तार अपराधी कर्मी मूल रूप से सारण जिला एवं वैशाली जिला के रहने वाले हैं.जो इंटर स्टेट गैंग से जुड़े होने की बात प्रकाश में आई है.

अपराध कर्मियों के पास से चार देसी कट्टा, चार जिंदा कारतूस ,4 मोबाइल समेत एक मारुति कार जप्त किया गया है.एसएसपी ने बताया कि उपरोक्त घटना के सफल उद्भेदन में शामिल पुलिस पदाधिकारी व कर्मियों को पुरस्कृत किया जाएगा.