32.1 C
Delhi
Homeबिहारनालंदानालंदा: गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए शिक्षक- प्रशिक्षण आवश्यक : मनोज वर्मा

नालंदा: गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए शिक्षक- प्रशिक्षण आवश्यक : मनोज वर्मा

- Advertisement -

बिहारशरीफ/अविनाश पांडेय : सूबे के प्रतिष्ठित बीएड कॉलेज में एक तुर्की टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज के एमएड विभागाध्यक्ष डॉ मनोज कुमार वर्मा ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए शिक्षक – प्रशिक्षण बहुत ही आवश्यक है, यही कारण है कि नई शिक्षा नीति-2020 में टीचर ट्रेनिंग पर विशेष जोर दिया गया है। वे शनिवार को नालंदा कॉलेज शिक्षाशास्त्र ( बीएड ) विभाग के तत्वावधान में ” गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में शिक्षक प्रशिक्षण की महत्ता ” पर विशेष व्याख्यान में छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि विद्यालयों और महाविद्यालयों में पूर्णरूपेण गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करके ही हम भारत को पुनः विश्व गुरु बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि नालंदा की धरती इस बात की गवाह है कि यहां सारी दुनिया के लोग शिक्षा ग्रहण करने आते थे।

बीएमए कॉलेज, बहेड़ी दरभंगा के बीएड विभागाध्यक्ष डॉ सुजीत द्विवेदी ने कहा कि शिक्षक अपने ज्ञान, कौशल व क्षमता का पूर्णरूपेण इस्तेमाल करके ही गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर सकते हैं। शिक्षाशास्त्र विभाग के एचओडी डॉ ध्रुव कुमार ने कहा कि नई शिक्षा नीति-2020 में पाठ्येत्तर गतिविधियों की उपयोगिता बढ़ गयी है।

अब शिक्षकों को अपने अध्यापन-कौशल से शिक्षार्थियों में सीखने की क्षमता में अपेक्षित संवर्धन कर कक्षा-कक्ष में आनंदमयी शैक्षिक वातावरण तैयार कर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने में सहयोग करना होगा। डॉ ध्रुव ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को प्रभावी बनाने में शिक्षकों को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी।

अध्यक्षता प्राचार्य डॉ रामकृष्ण परमहंस ने की। उन्होंने अतिथियों को अंग वस्त्र प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर डॉ राजेश कुमार, डॉ रंजन कुमार, पिंकी कुमारी, इशिता, संगीता कुमारी, प्रशांत एवं दिलीप पटेल सहित ने भी अपने विचार व्यक्त किए। विशेष व्याख्यान में सत्र 2018-20 और 2019-21 के बीएड प्रशिक्षणार्थियों ने भी हिस्सा लिया।

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -