नवादा में ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ कार्यक्रम का आयोजन

0
108

नवादा (पंकज कुमार सिन्हा): भाजपा जिलाध्यक्ष शशि भूषण कुमार बब्लू की अध्यक्षता में नवादा समाहरणालय के पास भाजपा कार्यकर्ताओं ने “मेरा बूथ सबसे मजबूत” कार्यक्रम में प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी का सम्बोधन सुना। जिले में मंडल स्तर से लेकर कई बूथ स्तरों पर कार्यकर्ताओं ने टेलीविजन के माध्यम से प्रधानमंत्री का सम्बोधन सुनने का काम किया। प्रधानमंत्री ने बूथ कार्यकर्ताओं से जहां वर्तमान में पड़ोसी देश पाकिस्तान से चल रहे तनाव पर जनता को आस्वस्त किया वहीं दूसरी ओर कार्यकर्ताओं को केंद्र सरकार द्वारा चलाये जा रहे जनहित योजनाओं को जन-जन तक पहुँचाने का मंत्र दिया।

इसके अलावे उन्होंने बूथ कार्यकर्ताओं को कई टिप्स दिए । भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि हमसभी कार्यकर्ता मोदी सरकार द्वारा जनहित में किये गए कार्यों से जनता को अवगत कराने का काम करेंगे तथा 2019 में जबतक उन्हें पुनः प्रधानमंत्री के कुर्सी पर पदस्थापित नहीं कर देते तबतक चैन से नहीं बैठेंगे।

कार्यक्रम में पूर्व जिलाध्यक्ष केदार सिंह, प्रो.विजय कुमार सिन्हा,विनय कुमार, राजेन्द्र सिंह, अरविंद गुप्ता, अर्जुन राम, रामपदारथ सिंह, विकास कुमार, विभा कुमारी, वर्षा रानी, गौरी रानी, जितेंद्र बब्लू , बिपिन सिंह, रामदेव यादव, महावीर चंद्रवंशी, अमित राय, मनोज पचढ़ा, रामवृक्ष शर्मा, गौरीशंकर सिंह, सर्वजीत शांडिल्य, दीपक कुमार, विनय सिन्हा, विजय यादव, संजय कुमार, पप्पू साव सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया तथा प्रधानमंत्री जी के संदेश को जन-जन तक पहुँचाने का संकल्प लिया।

उम्मीदवार अनुसेवकों का धरना नौवें दिन भी जारी 

नवादा समाहरणालय में चतुर्थवर्गीय पदों पर शीघ्र नियुक्ति की मांग को लेकर उम्मीदवार अनु सेवकों ने गुरुवार को नौवें दिन भी रेन बसेरा में धरना दिया।  धरना के माध्यम से उम्मीदवार अनु सेवकों ने जिला प्रशासन से वर्ष 2012 की विज्ञप्ति के अनुसार नियुक्ति पत्र वितरण करने की मांग की।  धरना में बैठे राजकुमार पांडे, संजय चौधरी , राजेंद्र प्रसाद,  संजय विश्वकर्मा,  मनोज पासवान , रवि कुमार सिन्हा ने बताया कि प्रशासन के द्वारा जानबूझकर लापरवाही की जा रही है।  ताकि इसमें शामिल उम्मीदवार अनुसेवक नियुक्ति से वंचित हो जाएं। 

धरना के दौरान जिला प्रशासन के खिलाफ उम्मीदवार अनु सेवकों ने जमकर नारेबाजी की तथा प्रशासन से नियुक्ति देने की गुहार लगाई।  गौरतलब है कि पिछले 9 दिनों से उम्मीदवार अनुसेवक अपनी मांग को लेकर रेन बसेरा में धरना का कार्यक्रम चला रहे हैं । प्रशासन की ओर से इन लोगों को कोई भी आश्वासन या वार्तालाप नहीं होने के कारण इन लोग के समक्ष काफी मुश्किलें खड़ी हो गई है । अब देखना यह है कि इन लोगों का धरना कितने दिनों तक जारी रहता है।

प्रशासन इस दिशा में क्या कदम उठाती है । धरना में बैठे लोगों ने बताया कि उम्मीदवार अनु सेवकों में कई लोग इंतजार करते करते मौत की नींद सो गए हैं।  परंतु प्रशासन की कुंभकरण नींद अभी तक नहीं खुली है।  ना जाने प्रशासन के दिलों दिमाग पर क्या छाया हुआ है । वर्ष 2012 में तत्कालीन जिलाधिकारी दिवेश सेहरा ने नियुक्ति पत्र निकाल कर इन उम्मीदवारों को बहाल करने की बात कही थी ।