13.1 C
Delhi
Homeबिहारनवादारेलवे ट्रैक पर खराब हो गयी ट्रक और पहुंच गई गया :...

रेलवे ट्रैक पर खराब हो गयी ट्रक और पहुंच गई गया : हावड़ा एक्सप्रेस

- Advertisement -

ग्रामीणों की सूझबूझ से टली बड़ी दुर्घटना

नवादा/पंकज सिन्हा : केजी रेलखंड पर चातर हाल्ट के समीप बुधवार को गया-हावड़ा एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होने से बच गई। ग्रामीणों व ड्राइवर ने सूझबूझ का परिचय दिया, जिससे हादसा होते-होते टल गया। अन्यथा बड़ी घटना से इनकार नहीं किया जा सकता था। दरअसल, मानव रहित रेलवे फाटक से होकर गुजर रहा धान लदा ट्रक बीच ट्रैक पर खराब हो गया। गुल्ला टूटने से ट्रक बीच ट्रैक पर खड़ा हो गया। तभी गया की तरफ से हावड़ा जा रही ट्रेन पहुंच गई।

ट्रेन आते देख ग्रामीणों के होश उड़ गए। कुछ युवाओं ने हिम्मत का परिचय देते हुए लाल गमछा लेकर ट्रैक पर पहुंच गए। कई ग्रामीण अपनी हाथों पर लाल गमछा लहरा रहे थे। रेलवे ट्रैक पर लाल गमछा लहराते ग्रामीणों की भीड़ देख गया-हावड़ा एक्सप्रेस के ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाई और ट्रेन ठहर गई। जिसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली। इसके बाद ग्रामीणों ने खराब ट्रक को रेलवे ट्रैक से हटाया। तब जाकर गया-हावड़ा एक्सप्रेस सुरक्षित वहां से अपने गंतव्य की ओर रवाना हुई।

अचानक झटका लगने से यात्रियों के बीच मच गई अफरातफरी : इमरजेंसी ब्रेक लगाते ही ट्रेन में जोरदार झटका लगा। सीट पर सवार यात्री गिर पड़े। जिससे अफरातफरी मच गई। यात्रियों को शुरू में कुछ समझ में नहीं आया। ट्रेन के रूकने पर बाहर निकल कर देखा तो माजरा समझ में आया। यात्रियों ने भगवान का शुक्र मनाते हुए स्थानीय ग्रामीणों और ट्रेन ड्राइवर के प्रति आभार जताया। यात्रियों का कहना था कि अगर थोड़ी सी भी विलंब हो जाती तो अप्रिय घटना हो सकती थी।

पहले भी कई बार हो चुका है हादसा : गौरतलब है कि चातर हाल्ट के समीप अवैध फाटक संचालित है। नवादा-हिसुआ मुख्य पथ पर महानंदपुर, डेरमा के रास्ते एनएच 31 पर फुलमा के समीप यह सड़क जुड़ती है। इस रास्ते से स्थानीय ग्रामीणों के साथ ही वाहनों का आवागमन होता है। इस फाटक पर पूर्व में कई बार हादसे हो चुके हैं। कई बार ट्रेन और वाहनों के बीच टक्कर हुई है, हालांकि उन घटनाओं में किसी की जान नहीं गई। ग्रामीणों का कहना है कि रेलवे फाटक के बीच सुविधा विस्तार को लेकर कई बार जिला प्रशासन और रेलवे प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया गया। लेकिन सुविधा बहाल नहीं की गई। ऐसे में अप्रिय घटना की संभावना बनी रहती है।

यह भी पढ़े …..

- Advertisement -






- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -