पियूष हत्याकांड के दो आरोपी गिरफ्तार, झारखंड व बिहार में करते हैं ऐसे कारनामे

0
145

नवादा(पंकज कुमार सिन्हा): नवादा पुलिस को गोविंदपुर थाना क्षेत्र के थाली ग्राम में छात्र पियूष की हत्या मामले में सफलता प्राप्त हुई है। नवादा पुलिस ने इस मामले में गहन छानबीन कर दो शातिर और बिहार-झारखंड का वांटेड मनोज मेहता और यशवंत कुमार मेहता को गिरफ्तार किया है। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक हरिप्रसाद एस ने प्रेस वार्ता कर बताया कि 5 फरवरी की रात्रि में थाली के व्यवसाई गोपाल साव के भतीजे सीधेश्वर राज उर्फ पियूष को अपराधियों ने गोली मारकर जख्मी कर दिया था, जिसकी बाद में मृत्यु हो गई थी।

इस घटना को पुलिस ने चैलेंज के रूप में स्वीकार करते हुए एक विशेष टीम का गठन कर अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए ताबड़तोड़ छापेमारी की। गठित विशेष टीम के द्वारा तकनीकी अनुसंधान एवं अन्य स्रोतों के आधार पर त्वरित कार्रवाई करते हुए इस घटना के मुख्य अपराध कर्मी झारखंड के हजारीबाग जिले के पदमा निवासी स्वर्गीय बाबू लाल मेहता के पुत्र मनोज कुमार मेहता एवं पदमा थाना क्षेत्र के बंदरबेला निवासी प्रदीप कुमार मेहता के पुत्र जसवंत कुमार मेहता को गिरफ्तार किया है।

घटना में शामिल अन्य अपराध कर्मियों की अभी पहचान की जा चुकी है । जिसकी गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। गिरफ्तार अपराधकर्मी मनोज कुमार मेहता पूर्व में झारखंड के चतरा, मुफस्सिल , कुज्जु, कोडरमा एवं हजारीबाग थाने से विभिन्न गंभीर प्रकार के अपराधिक घटनाओं में शामिल रहा है।

कई घटनाओं में वह जेल भी जा चुका है। संबंधित थानों से अपराधी का इतिहास प्राप्त कर कार्रवाई की जा रही है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मनोज कुमार मेहता न्यू पीएलएफ संगठन बनाकर बिहार व झारखंड में बड़े बड़े व्यवसायियों से ऐसे पत्र लिखकर रंगदारी की मांग करने का काम करता है।

नवादा में रखकर पढ़ाई की आड़ में रंगदारी जैसी घटनाओं को अंजाम देने की फिराक में था। नवादा में इसके द्वारा यह पहली घटना की गई है। अपराधियों के पास से 5 मोबाइल भी बरामद किया गया है। इस संबंध में अन्य अपराधियों की भी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। पुलिस अधीक्षक हरिप्रसाद एस ने कहा कि इस तरह की घटना का अंजाम देने वाले मनोज कुमार मेहता के विरूद्ध अन्य कई अपराधिक घटनाओं में शामिल होने के सबूत मिले हैं ।