ओटीपी सिस्टम अव्यवहारिक तथा दोषपूर्ण: आंगनबाड़ी कर्मचारी यूनियन

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा: बिहार राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी यूनियन एटक चनपटिया ईकाई की बैठक कृषि बाजार प्रागंण में सरिता शुक्ला की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में चनपटिया परियोजना से संबंधित समस्याओं पर गंभीरता से विचार किया गया। बैठक में ओटीपी सिस्टम को अव्यवहारिक तथा दोषपूर्ण करार दिया गया। ओटीपी सिस्टम को सिरे से खारिज कर दिया गया। विभाग द्वारा दिए गए मोबाइल की घटिया किस्म तथा लाभुकों के पास मोबाइल का न होना, ओटीपी सिस्टम में कोढ़ में खाज का काम कर रहा है।



विभाग के पदाधिकारियों को सिर्फ काम चाहिए, साधन हो या न हो इसकी चिंता विभाग एवं पदाधिकारियों को नहीं है। पांच पांच माह से सेविका सहायिका का मानदेय बकाया है, तीन बर्ष से मकान भाड़ा बकाया है। जिसके चलते सेविका सहायिका को फजिहत झेलना पड़ रहा है। पदाधिकारी सुनने को तैयार नहीं है, लेकिन काम और नजराना समय से चाहिए। इस समस्या के संबंध में कई बार विभाग के डीपीओ से यूनियन द्वारा कहा गया। लेकिन परिणाम ढाक का तीन पात रहा। अपनी समस्याओं से उबी सेविका सहायिकाओ ने बैठक कर 21 जनवरी 21 को जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है। विभाग के आदेश के अनुसार सभी आंगनबाड़ी केंद्र बंद है।

अभी तक केन्द्र खोलने का कोई विभागीय आदेश भी नहीं आया है। लेकिन चनपटिया की पर्यवेक्षिकाओं द्वारा सेविका सहायिका पर आंगनबाड़ी केंद्र खोलने कर बैठने का दबाव बनाया जा रहा है। चनपटिया में कोई स्थायी सीडीपीओ भी नही है। पूरा परियोजना भगवान भरोसे चल रहा है। बिहार राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी यूनियन के प्रधान संरक्षक ओम प्रकाश क्रान्ति ने बताया कि आईसीडीएस में सबसे अधिक शोषण सेविका सहायिका का हो रहा है। यूनियन सेविका सहायिका के अधिकारों की रक्षा के लिए आंदोलन की रणनीति बना रहा है। इस दौरान संघ की नेता सुमन वर्मा, गोदावरी देवी,आभा,अजय वर्मा, शिल्पी साधना, प्रमिला देवी, रेणु देवी ने विचार व्यक्त किया और खे तथा 21जनवरी 21 को जिला स्तरीय प्रदर्शन में हजारों की संख्या में भाग लेने का संकल्प लिया।