पटना: चैती छठ और रामनवमी की तैयारी को लेकर DM ने की बैठक

पटना: डीएम कुमार रवि की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में चैती छठ, राम नवमी एवं चैती दुर्गापूजा के अवसर पर विधि-व्यवस्था एवं अन्य तैयारियों के संबंध में बैठक आयोजित हुई।बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि इस वर्ष चैती छठ पर्व दिनांक 09 नहाय खाय से लेकर 12 तक मनाया जायेगा। चैती छठ पर्व के अवसर पर पटना शहर सहित पटना जिले के विभिन्न नदी घाटों एवं तालाबों में छठव्रती गंगा नदी में सूर्योपासना करते हैं तथा चिन्हित नदी घाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ रहती है। इस अवसर पर विधि व्यवस्था संधारण हेतु दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति सामान्य घाटों पर तथा खतरनाक/अनुपयुक्त घाटों पर की गई है।


जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारी निर्धारित तिथि को अपने प्रतिनियुक्ति स्थल पर 09 एवं 10 को पुर्वाह्न 06 बजे तक पहुँच जायेंगे एवं तब तक बने रहेंगे जब तक कि भीड़ पूरी तरह वापस नहीं चली जाय। पुनः दिनांक-11 को 11 बजे पुर्वाह्न तक पहुँच जायेगें तथा 12 को घाट खाली होने तक बने रहेंगे।जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि खतरनाक एवं अनुपयुक्त घाटों पर प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं बल भी ससमय अपने कर्तव्य पर पहुँच जायेंगे।

जिलाधिकारी ने बैठक में असैनिक शल्य चिकित्सक-सह-मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, पटना को निर्देश दिया कि एक-एक एम्बुलेंस जिला नियंत्रण कक्ष, पटना एवं पटना सिटी, नियंत्रण कक्ष में तथा एक-एक एम्बुलेंस दीघा पाटीपुल घाट, गेट नं0-93 घाट, बाॅस घाट, कलेक्ट्रीयट घाट का दियारा, काली घाट, गाँधी घाट, काॅलेज घाट, गाय घाट एवं भद्र घाट में,पर्याप्त जीवन रक्षक दवाओं एवं सी0पी0आर0 प्रशिक्षित कर्मी के साथ उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने असैनिक शल्य चिकित्सक-सह-मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, पटना को निर्देश दिया कि पटना शहरी क्षेत्र के तालाबों यथा मानीकचन्द तालाब एवं संजय गाँधी जैविक उद्यान स्थित तालाब के समीप एम्बुलेंस के साथ चिकित्सा दल की प्रतिनियुक्ति संबंधी आदेश निर्गत करेंगे। असैनिक शल्य प्रतिनियुक्ति संबंधी आदेश निर्गत करेंगे।

इन घाटों पर बने अस्थायी नियंत्रण कक्ष में एक-एक चिकित्सक, चिकित्सा दल, स्ट्रेचर एवं दवाओं के साथ इनकी प्रतिनियुक्ति भी सुनिश्चित करेंगे। एन0एम0सी0एच0/पी0एम0सी0एच0/इन्दिरा गाँधी हृदय रोग संस्थान/इन्दिरा गाँधी आयुर्विज्ञान संस्थान तथा कुर्जी अस्पताल के अलावा अन्य प्रमुख अस्पतालों में आपातकालीन चिकित्सा सुविधा 24 घंटे उपलब्ध रहने एवं इनका आॅपरेशन थियेटर 24 घंटे खुले रहने की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। इन सभी अस्पतालों में एक-एक पुलिस पदाधिकारी के साथ 10-10 लाठी बल भी प्रतिनियुक्त रहेंगे।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि छठव्रतियों एवं श्रद्धालुओं के बचाव तथा विधि-व्यवस्था संधारण के दृष्टिगत मोटरवोट एवं अन्य संसाधनों के साथ अलग से एन0डी0आर0एफ0 दल, एस0डी0आर0एफ दल, नाविक तथा गोताखोरों की प्रतिनियुक्ति अपर समाहर्त्ता, आपदा प्रबंधन, मो0 मोइजुद्दीन द्वारा किया जायेगा।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि घाटों पर प्रतिनियुक्त किये गये नाविक/गोताखोरों को ससमय उनके निर्दिष्ट स्थान पर सभी संसाधनों के साथ तैनात कराने की जवाबदेही संबंधित अनुमंडल पदाधिकारियों एवं अंचल अधिकारियों की होगी। उन्होंने कहा कि एन0डी0आर0एफ की 6 टीम 30 बोटों के साथ एवं एस0डी0आर0एफ की 2 टीम 12 बोटों के साथ राहत एवं बचाव कार्य के लिए तैनात रहेगी। साथ हीं देशी नाव नाविकों एवं गोताखोरों के साथ प्रतिनियुक्त रहेगी।

जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी बाढ़, अनुमंडल पदाधिकारी दानापुर, अनुमंडल पदाधिकारी मसौढ़ी एवं अनुमंडल पदाधिकारी पालीगंज को निर्देश दिया कि वे अपने-अपने अनुमंडल क्षेत्र में पड़ने वाले गंगा नदी के सभी घाटों पर जाँच कर आवश्यकतानुसार गोताखोरों की प्रतिनियुक्ति नाव, नाविक, जाल एवं अन्य संसाधन के साथ करना सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी पटना सदर, पटना सिटी, दानापुर एवं बाढ़ को निर्देश दिया कि नहाय खाय के दिन अर्थात 09.04.2019 से हीं गंगा घाटों पर सुरक्षा की दृष्टिकोण से दृष्टिकोण से गंगा नदी में नावों के परिचालन पर रोक लगाने हेतु धारा-144 के अन्तर्गत निषेधाज्ञा जारी करेंगें। नावों के परिचालन पर रोक रहेगा।

जिलाधिकारी ने संबंधित कार्यपालक पदाधिकारी, पटना नगर निगम, नगर परिषद् एवं नगर पंचायत को निर्देश दिया कि चैती छठ के अवसर अपने संबंधित सभी घाटों पर पेयजल तथा साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था कराना सुनिश्चित करेंगे। इसके अतिरिक्त कार्यपालक अभियंता, पी0एच0ई0डी0 (यांत्रिकी) पटना द्वारा भी टैंकरों के द्वारा महत्वपूर्ण नदी घाटों पर पेय जल की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने संबंधित कार्यपालक पदाधिकारी, पटना नगर निगम को निर्देश दिया कि चैती छठ से संबंधित घाटों पर बैरिकेडिंग एवं घाटों के पहुँच पथ पर सफाई तथा समतलीकरण का कार्य 09.04.2019 तक सुनिश्चित करेंगे। नगर परिषद् एवं नगर पंचायत को निर्देश दिया कि चैती छठ के अवसर अपने संबंधित सभी घाटों पर बैरिकेडिंग एवं घाटों के पहुंच पथ की सफाई, समतलीकरण इत्यादि का कार्य सुनिश्चित करेंगे। गंगा नदी के वैसे घाट जो खतरनाक या अनुपयुक्त घोषित हैं उन्हें बैरिकेड कर बन्द किया जाना सुनिश्चित करेंगे। नगर परिषद् एवं नगर पंचायत क्षेत्र में बैरिकेडिंग, घाटों की सफाई एवं समतलीकरण का कार्य कार्यपालक पदाधिकारियों द्वारा किया जायेगा।

जिलाधिकारी ने संबंधित कार्यपालक पदाधिकारी, पटना नगर निगम, नगर परिषद् एवं नगर पंचायत को निर्देश दिया कि चैती छठ के अवसर अपने-अपने क्षेत्रों के संबंधित घाटों एवं पहुँच पथ पर पर्याप्त रौशनी की व्यवस्था सुनिश्चित करें।जिलाधिकारी ने नजारत उप समाहर्ता को निर्देश दिया कि नियत्रण कक्ष में ध्वनि विस्तारक यंत्र की व्यवस्था तथा घाटों पर चेंजिंग रूम की व्यवस्था करें।

जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता, पी0एच0ई0डी0, पूर्वी एवं पश्चिमी को निर्देश दिया कि सभी घाटों पर यूरिनल की व्यवस्था निर्धारित संख्या में सुनिश्चित करायेंगे।

जिलाधिकारी ने जिला अग्निशमन पदाधिकारी, पटना को निर्देश दिया कि चैती छठ के अवसर पर जिला नियंत्रण कक्ष, पटना एवं पटना सिटी में ससमय 01-01 यूनिट फायर ब्रिगेड की व्यवस्था सुनिश्चित करायेंगे। साथ ही दीघा पाटीपुल घाट एवं गाय घाट के पास 01-01 यूनिट फायर टेन्डर की प्रतिनियुक्ति सुनिश्चित करेंगे। इसके अतिरिक्त जिला अग्निशमन पदाधिकारी अपने स्तर से आकस्मिकता प्लान तैयार कर तद्नुसार आवश्यक प्रतिनियुक्तियाँ सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने महाप्रबंधक, पेसू, पटना को निर्देश दिया कि मुख्य सड़को एवं घाटों से सम्पर्क पथों पर विद्युत व्यवस्था, विद्युत कार्य प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता से कराने हेतु निर्देश देंगे। इस अवसर पर निर्बाध रूप से विद्युत आपूर्ति के साथ-साथ मुख्य पथ एवं घाटों के सम्पर्क पथ में पड़ने वाले लूज-कमजोर तारों को ठीक कराने की व्यवस्था सुनिश्चित करायेंगे। घाटों पर मार्गों में अस्थायी रूप से विद्युत कनेक्शन की जाँच मेकेनिकल इंजीनियर, विद्युत द्वारा ससमय कर ली जाय ताकि किसी भी प्रकार की दुर्घटनाओं से बचा जा सके।

जिलाधिकारी ने अनुमण्डल पदाधिकारी पटना सिटी को निर्देश दिया कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से यह सुनिश्चित करें की पीपापुल होकर दियारा में जाकर छठ व्रती पूजा, अर्चना न करें।

जिलाधिकारी ने बताया कि छठ पर्व के अवसर पर घाट धार्मिक स्थल के रूप में परिवर्तित हो जाते हैं। अतः घाटों पर आतिशबाजी एवं पटाखों के प्रयोग करने पर पूर्णतः रोक है। इसकी जानकारी भी क्षेत्र के लोगों में खासकर पूजा समिति के सदस्यों को दे देंगे। जिलाधिकारी ने बताया कि छठ पर्व के अवसर पर आवश्यक व्यवस्थाओं से संबंधित विभागों/कार्यालयों द्वारा एक-एक सक्षम वरीय पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति जिला नियंत्रण कक्ष में की जायंगी अथवा स्वंय उपस्थित रहेंगे, ताकि आकस्मिकता की स्थिति में समस्या का तुरंत निदान संभव हो सके।

जिलाधिकारी ने बताया कि इस वर्ष रामनवमी पर्व 13 को मनाया जायेगा तथा चैती दुर्गा पूजा 06 से 14 तक मनाया जायेगा। रामनवमी के पूर्व संध्या 12.04.2019 से हीं श्रद्धालुओं की भीड़ पंक्तिबद्ध होकर महावीर मंदिर के बाहर आनी शुरू हो जाती है। श्रद्धालुगण पूर्व संध्या 8 बजे से ही पट खुलने की प्रतीक्षा में रहते है।

पट खुलने के पश्चात् श्रद्धालुओ के मंदिर में प्रवेश हेतु चिन्हित द्वार से प्रवेश होता है एवं निकास हेतु चिन्हित द्वार से इनका निकास होता है। सुगमता पूर्वक एवं शीघ्र कराये जाने एवं भीड़ नियंत्रण के दृष्टिकोण से मंदिर के सभी द्वारों, उत्तरी तल एवं बाहर में भीड़ नियंत्रण एवं श्रद्धालुओं को पंक्तिबद्ध रखने हेतु पर्याप्त संख्या में दण्डाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं बल की प्रतिनियुक्ति की जा रही है।

जिलाधिकारी ने बताया कि महावीर मंदिर से श्रद्धालुओं की पंक्ति जी0पी0ओ0 गोलम्बर से होती हुई वीर कुंअर सिंह पार्क के अन्दर तक रहती है। वीर कुंअर सिंह पार्क में श्रद्धालुओं का प्रवेश आर0 ब्लाॅक की ओर स्थित पार्क के द्वार से होगा एवं निकास पार्क के पूर्वी दक्षिणी द्वार से पंक्ति के रूप में होगा। श्रद्धालु पंक्तिबद्ध रहें इसमें कोई अव्यवस्था न हो साथ ही विधि व्यवस्था संधारित रहे। इसलिए पर्याप्त संख्या में वरीय दण्डाधिकारियों तथा पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है।

जिलाधिकारी ने पर्याप्त लाईट की व्यवस्था करने का निर्देश महाप्रबंधक पेसू को दिया

जिलाधिकारी ने नजारत उप समाहर्ता को निर्देश दिया कि जिला नियंत्रण कक्ष में एक सुरक्षित विडियों ग्राफर के साथ दो अतिरिक्त विडियों ग्राफर की व्यवस्था करेंगे ताकि उनका उपयोग भीड़ नियंत्रण हेतु किया जा सके। कार्यपालक अभियंता पी0एच0ई0डी0 पेयजल की व्यवस्था करेंगे। सिविल सर्जन अस्थायी चिकित्सा शिविर मंदिर के पास लगायेंगे। नियंत्रण कक्ष एवं अस्थायी नियंत्रण कक्ष में जीवन रक्षक दवाओं के अतिरिक्त मेडिकल टीम उपलब्ध करायेंगे।

जिलाधिकारी ने बताया कि डाकबंगला चैराहा पर विधि व्यवस्था संधारण एवं भीड़ नियंत्रण हेतु घ्वनि विस्तारक यंत्र के साथ एक अस्थायी नियंत्रण कक्ष कार्यरत रहेगा जिसमें पर्याप्त संख्या में दण्डाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की जायेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि रामनवमी के अवसर पर पटना नगर निगम जुलुस के मार्गों के सफाई एवं सड़क के किनारे अवस्थित नालों की सफाई समय पूर्व कराना सुनिश्चित करेंगे।चैती दूर्गा पूजा के अवसर पर मूर्ति स्थापना वाले स्थलों एवं आस पास के क्षेत्रों में दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति मूर्ति विर्सजन तक रहेगी। संबंधित थाना अध्यक्ष सुनिश्चित करायेंगे कि मुर्ति विर्सजन जुलुस स्काॅट के साथ विर्सजन हेतु विर्सजन स्थल तक जाये ताकि मार्ग में कोई अप्रिय घटना न घटें।

सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी, सोशल मिडिया यथा वाट्सएप, ट्वीटर एवं फेसबुक पर करी निगरानी रखेंगे तथा अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करेंगे।जिलाधिकारी ने स्टेशन आॅफिसर फायर ब्रिगेड को निर्देश दिया कि 01-01 फायर युनिट जिला नियंत्रण कक्ष, सिटी नियंत्रण कक्ष, सुल्तानगंज थाना तथा फायर ब्रिगेड युनिट पालीगंज में प्रतिनियुक्त करेंगे।

इस अवसर पर जिलाधिकारी कुमार रवि के साथ वरीय पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक,उप विकास आयुक्त डॉ अदित्य प्रकाश ,नगर पुलिस अधीक्षक मध्य श्री प्रान्तोष दास, पुलिस अधीक्षक पूर्वी राजेन्द्र कुमार भील, नगर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी, पुलिस अधीक्षक यातायात, अपर जिला दण्डाधिकारी विधि व्यवस्था कृष्ण कन्हैया प्रसाद सिंह, अपर जिला दण्डाधिकारी आपदा मो0 मोइजुद्दीन, अपर समाहर्ता राजीव श्रीवास्तव, सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, सभी अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी एवं सभी संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।