पटना के डीआईजी ने लिखी 62 कविताएं, सीएम नीतीश कुमार ने किया किताब का लोकार्पण

0
189

पटना/अमित जायसवाल: सेंट्रल रेंज के डीआईजी राजेश कुमार कर्मठ पुलिस अधिकारी होने के साथ ही एक बेहतरीन कवि भी हैं. इनका कवि मन हमेशा प्रकृति और जीवन को प्रेरणा देने वाली कविताओं को गढ़ता है. अपनी लिखी कविताओं को पटना के डीआईजी ने एक किताब में संजोया है. उन्होंने इस किताब का नाम ‘जी ले जरा’ रखा है. बड़ी बात ये है कि डीआईजी के लिखे इस किताब का लोकार्पण गुरुवार को खुद सीएम नीतीश कुमार ने किया. वो भी राजगीर में.

किताब के लोकर्पण के वक्त सीएम नीतीश कुमार के साथ ही सीएम के प्रमुख सचिव चंचल कुमार और डीजी ट्रेनिंग आलोक राज मौजूद थे. इस किताब में राजेश कुमार की लिखी हुई कुल 62 कविताएं संग्रहित हैं. पुलिस की नौकरी कड़ी चुनौती भरा काम है. ऐसे में अपनी ड्यूटी करना और कविता को लिखना कतई आसान नहीं है. लेकिन राजेश कुमार ने ऐसा कर दिखाया है.

किताब में शामिल कविताओं को लिखने में इन्हें 10 साल का वक्त लगा है. जीवन को अधिक उर्जा और उत्साह के साथ जीने की कला सिखाती इन कविताओं को पढ़ने के लिए अमेजन साइट पर भी ये किताब उपलब्ध है. खुद को तनाव मुक्त रखने और जीवन में अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इन कविताओं की मदद ली जा सकती है.

आपको बता दें कि पटना के डीआईजी राजेश कुमार 2003 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. इनका जन्म हरियाणा में हुआ है. हालांकि शुरू से ही इनका कर्म स्थल बिहार रहा है. मुजफ्फरपुर, भागलपुर, भोजपुर, कैमूर, सहरसा, नालंदा और मधुबनी जिलों के एसपी रह चुके हैं.