इलाहाबाद की वकील से रेप के आरोप में आइएएस संजीव हंस और पूर्व विधायक गुलाब यादव पर पटना में मुकदमा!

0
70

स्टेट डेस्क/पटना: पटना की एक अदालत ने बिहार कैडर के सीनियर आईएएस अफसर संजीव हंस और राजद के पूर्व एमएलए गुलाब यादव के खिलाफ बलात्कार के एक मामले में मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। दानापुर सिविल कोर्ट के एसीजेएम रूपसपुर थाने को केस दर्ज करने का आदेश दिया है। इससे पहले इन दोनों पर लगे आरोपों पर पुलिस ने कोर्ट में प्रारंभिक जांच रिपोर्ट पेश की थी। पुलिस की जांच रिपोर्ट में पाया गया है कि संजीव हंस औऱ गुलाब यादव पीड़ित महिला के साथ दिल्ली के एक होटल में मौजूद थे। महिला इलाहाबाद हाईकोर्ट की वकील बतायी गयी है,जो 2016 में गुलाब यादव के संपर्क में आयी थी

मालूम हो कि 2021 में पीड़िता ने आरोप लगाया था कि संजीव हंस और गुलाब यादव ने उसके साथ बलात्कार किया है. महिला का आरोप है कि तत्कालीन विधायक गुलाब यादव ने उसे महिला आयोग का सदस्य बनाने का प्रलोभन देकर पटना के रूकनपुरा स्थित अपने फ्लैट पर बुलाया था। वहां उसके साथ रेप किया गया। महिला का कहना है कि गुलाब यादव ने रेप का वीडियो भी बना लिया था। उस वीडियो के आधार पर उसे ब्लैकमेल किया गया।

महिला का कहना है कि गुलाब यादव ने उसे ब्लैकमेल कर दिल्ली के होटल में बुलाया, जहां आइएएस अधिकारी संजीव हंस भी मौजूद थे. दोनों ने नशीला पर्दाथ खिलाकर रेप किया।महिला के मुताबिक अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उसे कई दफे होटलों में बुलाया गया जहां संजीव हंस और गुलाब यादव ने उसके साथ रेप किया। इस मामले में महिला ने 2021 में पटना पुलिस को प्राथमिकी दर्ज करने के लिए कई बार आवेदन दिया लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। फिर महिला ने दानापुर के एसीजेएम के कोर्ट में एफआईआर दर्ज करने की गुहार लगायी थी। दानापुर एसीजेएम कोर्ट ने पटना पुलिस के पास महिला की शिकायत को भेजते हुए इस मामले पर प्राथमिक जांच रिपोर्ट मांगी थी। पुलिस ने रिपोर्ट भी नहीं दी और दानापुर एसीजेएम कोर्ट ने महिला के मुकदमे को खारिज कर दिया।

इसके बाद पीड़ित महिला ने पटना हाईकोर्ट में गुहार लगायी थी। दिसंबर 2022 में पटना हाईकोर्ट ने दानापुर के एसीजेएम को निर्देश दिया था कि वे फिर से इस मामले की सुनवाई करें. हाईकोर्ट ने पटना पुलिस को भी उचित समय में जांच रिपोर्ट कोर्ट में पेश करने को कहा था. इसके बाद दानापुर एसीजेएम कोर्ट में मामले की फिर से सुनवाई हुई औऱ शुक्रवार को दानापुर कोर्ट ने पटना पुलिस को आईएएस संजीव हंस और पूर्व विधायक गुलाब यादव के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश दिया है।

महिला के वकील रंजन कुमार शर्मा ने बताया कि पुलिस की जांच रिपोर्ट में कई तथ्य सामने आये हैं। पुलिस की जांच रिपोर्ट में आय़ा है कि आईएएस अधिकारी संजीव हंस औऱ गुलाब यादव पीड़ित महिला के साथ दिल्ली के एक होटल में रूके थे। वकील रंजन कुमार शर्मा ने कहा कि पुलिस की रिपोर्ट में कई और ऐसे तथ्य सामने आये हैं, जिससे पीड़िता द्वारा लगाये जा रहे आरोपों की पुष्टि हो रही है। उसके बाद ही दानापुर की एसीजेएम कोर्ट ने संजीव हंस और गुलाब यादव के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश दिया है।

पीड़ित महिला का आरोप है कि आईएएस संजीव हंस ने उसके साथ रेप किया जिससे उसे एक बच्चा भी हुआ है. वह बच्चा अब चार साल का हो गया है. महिला मांग कर रही है कि उस बच्चे और आईएएस संजीव हंस का डीएनए टेस्ट कराया जाये ताकि ये साबित हो सके कि रेप हुआ है. महिला का दावा है कि संजीव हंस के डीएनए टेस्ट से साबित हो जायेगा कि बच्चा उन्हीं का है। पीड़ित महिला ने कहा कि उसे अपनी जान का भी खतरा है। रेप करने वाले दोनों अभियुक्त बेहद रसूखदार हैं. पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं, दोनों अभियुक्त उसे बार बार धमकी दे रहे हैं। ऐसे में आशंका है कि बच्चे समेत उसकी हत्या की जा सकती है. पीडित महिला ने बिहार सरकार से सुरक्षा की गुहार लगायी है।