39 C
Delhi
Homeबिहारपटनावर्ल्ड चाइल्डहुड कैंसर डे पर कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए PARAS HMRI...

वर्ल्ड चाइल्डहुड कैंसर डे पर कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए PARAS HMRI अस्पताल में आयोजन

- Advertisement -spot_img

पटना/(उदिप्त निधि): वर्ल्ड चाइल्डहुड कैंसर डे पर आज पटना के पारस एचएमआरआई अस्पताल में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें कैंसर से लड़ते हुए 25 बच्चों ने हिस्सा लिया। आयोजन में बच्चों के लिए पेंटिंग कॉम्पिटिशन और कुछ अन्य गेम्स थे।

प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर आए बच्चों को सम्मानित भी किया गया। पारस एचएमआरआई सुपर स्पेशलिटी हास्पिटल के हेमैटोलॉजी विभाग के अध्यक्ष और बोन मैरो ट्रांसप्लांट के विशेषज्ञ डॉक्टर अविनाश कुमार सिंह इस आयोजन के मुख्य वक्ता थे।

उन्होने कहा कि 80% बच्चे इलाज के बाद पूरी तरह ठीक हो सकते हैं। कैंसर के बारे में बताते हुए उन्होंने यह भी कहा कि भले ही यह बीमारी का इलाज़ लम्बा चलता है पर इसमें पूर्णत ठीक होने की सम्भावना भी पूरी रहती है। विकसित देशों की तुलना में विकासशील देशों में मात्र 20% ही बच्चे ठीक हो पाते हैं। उन्होने आगे यह भी कहा कि मरीज के कुछ हद तक ठीक होते ही बच्चों के परिजन उनका इलाज़ करवाना छुड़वा देते है, जिसका बाद में उन्हें हर्जाना भरना पड़ता है।

बच्चों में होनेवाला कैंसर में प्रमुख ब्लड कैंसर में ए.एल.एल (एक्यूट लिमफोबलासिटक ल्यूकेमिया) एवं लिमफोमा है। ब्रेन ट्यूमर दूसरे नंबर पर आता है। इलाज़ की चर्चा करते हुए सिंह ने कीमोथेरेपी की बात कही। इस मौके पर मनोचिकित्सक डॉ नीरज वेदपुरिया ने परिजनों को साहस के साथ बच्चों का इलाज़ करवाने का टिप्स भी दिया। अस्पताल के रीजनल डायरेक्टर डॉ तलत हलीम ने कहा कि डॉ अविनाश के निर्देशन में ब्लड कैंसर मरीजों का इलाज़ हमारे यहां किया जाता है।

जनरल सर्जरी विभाग के डायरेक्टर और बिहार के जाने माने सर्जन डॉ एए हई ने आयोजन को सम्बोधित करते हुए कहा कि बच्चों में ब्लड कैंसर से अब निराश होने की जरूरत नहीं है क्यूंकि अब इसका पूर्ण इलाज़ संभव है। उन्होंने आगे कहा कि पारस में इलाज़ के लिए अत्याधुनिक सुविधाएं, मशीन और डॉक्टर मौजूद है।

इस मौके पर पारस कैंसर सेंटर के पद्मश्री डॉक्टर जे के सिंह, डॉ. प्रोफेसर सी खांडेलवाल, डॉ. आर. एन. टैगोर, डॉ. सुमांत्रा सिरकार, डॉ. शेखर केसरी, डॉ. मिताली डांडेकर लाल, डॉ. स्नेहा झा, डॉ. रिदू कुमार, डॉ. अभिषेक आनंद डॉ. दिव्या कृष्णा एवं डॉ. स्नेहा भी मौजूद रहीं.

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -