Patna : अब मरीजों को बड़े अस्पतालों में रेफर करने का खेल नहीं चलेगा, रेफरल कार्ड पर लिखना होगा कारण!

0
57

State Desk : मरीजों को अकारण बड़े अस्पतालों में रेफर कर देने का खेल अब नहीं चलेगा। स्वास्थ्य विभाग की रेफरल पॉलिसी लागू हो गई है। उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव जो स्वास्थ्य मंत्री भी हैं, उन्होने पटना में इसकी औपचारिक घोषणा की है। इसके अनुसार बिना रेफरल कार्ड के मरीजों को बड़े अस्पतालों में नहीं भेजा जायेगा।

अब तक मरीजों को रेफर करते समय चिकित्सक किसी मानक का पालन नहीं करते थे। अस्पतालों में कार्यरत चिकित्सक पुर्जा पर ही रेफर लिखकर मरीज को चलता कर देते थे। उनका प्राथमिक उपचार भी नहीं किया जाता। इस कारण स्थिति यह हो गई कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मरीजों का उपचार करने के बजाए केवल रेफर करने के लिए ही चर्चित हो गए हैं।

हद तो यह कि जिलास्तर पर बने सदर अस्पतालों में विशेषज्ञ चिकित्सकों के होते हुए भी वहां से मरीजों को मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया जाता है। जबकि राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों में मरीजों का दबाव पहले से ही ज्यादा है। ऐसे में अस्पतालों की ओर से मरीजों को रेफर किए जाने के कारण उपचार में परेशानी हो रही थी।

भारी भीड़ के कारण मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक मरीजों के साथ समुचित न्याय नहीं कर पाते हैं। एक-एक चिकित्सक एक दिन में दर्जनों मरीजों को ओपीडी में देखते हैं। इस स्थिति से उबरने के लिए ही विभाग ने रेफरल पॉलिसी बनाई है।

जानिए क्या है रेफरल पॉलिसी ?

रेफरल पालिसी में हर बीमारियों के लिए मानक तय किया गया है। किस बीमारी में किस हद तक मरीजों का उपचार निचली इकाइयों के अस्पतालों में होगा, इसका प्रावधान किया गया है। इसके साथ ही मरीजों को रेफर करने के लिए विभाग ने एक रेफरल कार्ड भी तैयार किया है। इसमें मरीजों से संबंधित पूरी जानकारी और रेफर करने के ठोस कारणों को भी बताना होगा। ऐसा नहीं करने वाले चिकित्सकों पर कार्रवाई की जाएगी।

रेफरल कार्ड में मरीजों के नाम, उम्र व पता की जानकारी देनी होगी। मरीजों को कब व किस तिथि को रेफर किया जा रहा है, इसकी जानकारी देनी होगी। जिस मरीज को रेफर किया जा रहा है, उसका उस अस्पताल ने क्या उपचार किया, क्या जांच की, यह भी बताना होगा। मरीज की अपडेट स्थिति की जानकारी कार्ड में देनी होगी, ताकि जिस अस्पताल में मरीज जाए, वहां उसका उपचार जल्दी शुरू हो सके।

मरीज को रेफर करने का ठोस कारण चिकित्सकों को बताना होगा। रेफर करने वाले अस्पताल, चिकित्सक, पद के बारे में जानकारी देनी होगी। जिस अस्पताल से रेफर किया गया, उसके प्रभारी को उसकी जानकारी है या नहीं, रेफरल कार्ड में यह भी बताना होगा।