अगले साल तक स्मार्ट प्री-पेड मीटर का काम होगा पूरा: नीतीश कुमार

0
68

पटना/नियाज आलम: आज विद्युत भवन परिसर में ऊर्जा विभाग की कुल 1006.95 करोड़ रुपए की विभिन्न योजनाओं का कार्यारंभ एवं उद्घाटन रिमोट के माध्यम से किया गया। इसमें 390.84 करोड़ रुपए की योजनाओं का कार्यारंभ और 616.11 करोड़ की योजनाओं का उद्घाटन शामिल है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कृषि और बिजली की उपलब्धता पर जोर देते हुए कहा कि बिहार की आबादी का 89 प्रतिशत हिस्सा गांवों में निवास करता है और उसमें 76 प्रतिशत आजीविका के लिये कृषि पर निर्भर हैं।

कृषि के लिए बिजली की समुचित उपलब्धता जरुरी है और इसके लिए हरसंभव काम किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘स्मार्ट प्री-पेड’ मीटर को कैबिनेट से पास कर दिया गया है। इसका भार कंज्यूमर पर किसी प्रकार न पड़े, इसके लिए भी सहमति बन चुकी है। जल्दी से इसको पूरा करने के लिए तीनों एजेंसियों को इस काम में लगा दिया गया है, ताकि 15 अगस्त 2020 तक इसे पूरा करा लिया जाए। उन्होंने कहा कि प्री-पेड मीटर के हो जाने के बाद मीटर रीडिंग में होने वाली किसी भी प्रकार की गड़बड़ी से बचा जा सकेगा। सबसे बड़ी बात तो ये है कि जो जितना बिजली खर्च करेगा, उस हिसाब से वो अपना बिजली रीचार्ज करेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उपभोक्ताओं को किसी प्रकार का अतिरिक्त आर्थिक बोझ न पड़े, इसके लिए सरकार लगभग पांच हजार करोड़ रूपये की सब्सिडी दे रही है। मुफ्त में बिजली देना उचित नहीं है, क्योंकि इससे पर्यावरण को संकट में डालने जैसी स्थिति बन जाएगी। वैसे लोग मुफ्त में बिजली की बात करते हैं, वह केवल एक पब्लिसिटी स्टंट से ज्यादा कुछ भी नहीं है। व्यावहारिक और तार्किक होकर इस पर सोचने की जरुरत है।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि जर्जर तार के गिरने से जो दुर्घटनाएं होती हैं, वह पीड़ादायक है। तार के लिए जो आपलोग नए कंडक्टर का उपयोग कर रहे हैं, इससे बिजली चोरी पर भी रोक लगेगी और बिजली का सही उपयोग होगा। डीजल की खपत कम होगी, इससे प्रदूषण से भी निजात मिलेगा। उन्होंने कहा कि हाइडल और सोलर पावर प्लांट के लिए हमलोगों ने निर्णय लिया है। सोलर पावर के लिए सरकारी कार्यालयों में सोलर प्लांट को रुफ टॉप पर लगाइये, इससे बिजली तो मिलेगी ही, इसे देखकर धीरे-धीरे लोग भी प्रभावित होंगे और इसका हम सब फायदा उठाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट के लिए कजरा और पीरपैंती में पहले थर्मल प्लांट लगाने की योजना थी, मगर अब यहां सोलर प्लांट 300-300 मेगावाट की क्षमता का लगाया जा रहा है। सोलर प्लांट के लगने से बिजली उत्पादन के साथ-साथ हमारा पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा।
समारोह को उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव और ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने भी संबोधित किया।