पुलिस के लिए बड़ा हथियार है स्पीडी ट्रायल, बढ़ाई जाएगी इसकी रफ्तार

0
158

पटना/(अमित जायसवाल): अपराध पर लगाम लगाने और अपराधियों को उनके अंजाम तक पहुंचाने में स्पीडी ट्रायल का रोल काफी बड़ा है. बिहार पुलिस के मुखिया गुप्तेश्वर पांडेय ने माना है कि अपराधियों को सजा दिलाने के लिए स्पीडी ट्रायल के रूप में पुलिस के पास एक बड़ा हथियार है. आने वाले समय में बिहार के अंदर इसकी रफ्तार को और बढ़ाया जाएगा. दरअसल, शुक्रवार से बिहार पुलिस सप्ताह की शुरूआत हुई है.

सरदार पटेल भवन स्थित नए पुलिस मुख्यालय में   उद्घाटन समारोह का आयोजन किया गया था. डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय इसी समारोह में बोल रहे थे. स्पीडी ट्रायल की चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि इसके तहत 5926 अपराधियों को 2018 में सजा दिलाई गई है. इसमें 5 अपराधियों को फांसी और 1334 को उम्र कैद की सजा मिली. इनके अलावा 600 से अधिक वैसे अपराधी हैं, जिन्हें 10 साल से अधिक की सजा कोर्ट ने दी है. डीजीपी ने कहा की बिहार के अंदर अपराधियों पर पूर्ण लगाम लगाने के लिए स्पीडी ट्रायल को और मजबूत बनाने की कवायद की जाएगी. 

इस मौके पर मौजूद राज्य के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने पुलिस कोटे से खिलाड़ियों की बहाली पर ध्यान देने को कहा है. मुख्य सचिव ने कहा कि पुलिस में बहाली के लिए 3 प्रतिशत कोटा खिलाड़ियों के लिए रखा गया है. इस पर खास ध्यान देने की आवश्यकता है. आपको बता दें की आज से शुरू हुआ पुलिस सप्ताह 27 फरवरी तक चलेगा. इस दरम्यान कई प्रकार के इनडोर और आउटडोर प्रोग्राम आयोजित किए जाएंगे.