33.1 C
Delhi
Homeबिहारप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा बनी बैंक अधिकारियों के गले की हड्डी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा बनी बैंक अधिकारियों के गले की हड्डी

- Advertisement -

गलती से ट्रांसफर साढ़े पांच लाख रुपये खाताधारक ने किए खर्च। कहा – मुझे लगा पीएम ने भेजे हैं

स्टेटडेस्क,पटना: बिहार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक घोषणा बैंक अधिकारियों के गले की हड्डी बन गया है । यह दिलचस्प मामला सूबे के खगड़िया जिले की एक बैंक से जुड़ा है । मानसी थाना क्षेत्र में ग्रामीण बैंक है। बैंक कर्मियों की गलती से बख्तियार पुर गांव के एक खाताधारक के एकाउंट में साढ़े पांच लाख रुपया ट्रांसफर हो गया । खाताधारक रंजीत दास ने आनन – फानन में पैसा निकाल लिया । बैंक अधिकारियों ने कई बार रंजीत दास से सम्पर्क कर पैसा लौटाने को कहा किंतु उसने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि पैसे खर्च हो गए है। रंजीत दास का कहना है – इस साल मार्च में जब मेरे खाते में पैसा आया तो मैं बेहद खुश हुआ। मैंने सोचा कि प्रधानमंत्री मोदी ने हर एक व्यक्ति के खाते में 15 लाख रुपये जमा करने का वादा किया था। मुझे लगा कि यह उसी की पहली किश्त है। सो पैसे खर्च कर दिये।

खाताधारक के मुताबिक यही सोचकर मैं काफी खुश था और रुपये न‍िकालकर खर्च भी कर द‍िए। लेकिन बाद में मामला कुछ और ही निकला, जिसके लिए अब उन्हें जेल की हवा खानी पड़ रही है। जानकारी के अनुसार, बैंक ने भूल से रंजीत दास के खाते में साढ़े पांच लाख रुपये भेज दिए। बैंक को जब अपनी भूल का आभास हुआ, तो खाताधारी से साढ़े पांच लाख वापस करने को कहा। मगर खाताधारी ने इस खुशी में सारे पैसे खर्च कर दिए कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें साढ़े पांच लाख की रकम भेजी है। अब वे वापस नहीं करेंगे। बैंक द्वारा कई बार वापसी को लेकर नोटिस दी गई। बावजूद जब राशि वापस नहीं की गई, तो बैंक द्वारा केस दर्ज कराया गया। इसके बाद मानसी पुलिस द्वारा रंजीत दास को गिरफ्तार कर लिया गया। वह समीप के बख्तियारपुर गांव का रहने वाला है। मानसी थानाध्यक्ष दीपक कुमार ने बताया कि ग्रामीण बैंक द्वारा केस दर्ज कराया गया था।

ग्रामीण बैंक मानसी शाखा के बैंक अध‍िकार‍ियों का कहना है क‍ि गलती से रंजीत के खाते में रुपये चले गए थे। बाद में मिलान होने पर यह पता चला। इसके बाद से लगातार रंजीत को रुपये वापस करने को कहा गया, लेकिन तब तक रंजीत ने सारा रुपये खाते से न‍िकाल ल‍िए हैं। इसके बाद रंजीत से संपर्क क‍िया गया तो उसने बताया कि पीएम मोदी ने रुपये भेजे हैं, मैं वापस नहीं करूंगा।  जब रुपये वापस नहीं किया गया तो बैंक को पुलिस के पास श‍िकायत दर्ज करानी पड़ी।

यह भी पढ़े

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -