सीमांचल के चारों जिले के पुलिसकर्मी देंगे अपना एक दिन का वेतन…तकरीबन 50 लाख रुपया मिलेगा अश्विनी के परिवार को,पढ़ें पूरी खबर

  • सवाल न0 01-बार-बार फोन करने के बाद भी घटनास्थल पर क्यों नही पहुंची बंगाल पुलिस.
  • सवाल न0 02-अश्वनी के साथ गए सर्किल इंस्पेक्टर मनीष और पुलिसकर्मियों ने क्यों अश्विनी को अकेला पिटता हुआ छोड़कर भाग गए.
    सवाल न0 03-अश्विनी को बचाने के लिये उनके साथी पुलिसकर्मियों ने क्यों नही जबाबी फायरिंग की.
  • सवाल न0 04:-अश्विनी पर जब अपराधियों ने हमला किया तो उस वक्त उनकी पिस्टल कहाँ थी.

पूर्णिया/राजेश कुमार झा : एक बहुत ही दुःख की खबर आ रही कि किशनगंज थानाध्यक्ष अश्वनी की मौत की खबर सुन उनकी माता जी ने भी प्राण त्याग दिये.आज माँ और बेटे का एक साथ अंतिम संस्कार पैतृक गांव पूर्णिया के जानकीनगर में किया जाएगा.पहले बेटे की मौत और उसके बाद माँ की मौत की खबर सुन पूरे गावँ में मातम पसरा हुआ है.


किसी के घर मे चूल्हा तक नही जला है.परिजन ने अश्विनी की हत्या को लेकर पूरे सिस्टम को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है.बताते चलें कि किशनगंज नगर थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार की कुछ अपराधियों ने हत्या कर दी है.जिससे पूरे पुलिस महकमे में शोक की लहर है.

दूसरी तरफ अश्विनी की मौत ने पूरे सिस्टम को ही सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है.अश्वनी की मौत ने पुलिस के समक्ष कई ऐसे सवाल खड़े कर दिए है.जिनका जबाब पुलिस को ही ढूंढना है.मौत के बाद पूर्णिया रेंज के आईजी सुरेश कुमार ने तत्काल अश्वनी के साथ गए सर्किल इंस्पेक्टर मनीष कुमार सहित 7 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है.