केंद्र से वार्ता के ठीक पहले राहुल ने देश छोड़ कर किसानों को धोखा दिया- सुशील मोदी

पटना: सुशील मोदी ने कहा कि राहुल गांधी ने राफेल विमान खरीद और नागरिकता कानून की तरह नये कृषि कानून को लेकर भी लोगों को गुमराह किया। उनकी पार्टी की सरकार ने पंजाब के कुछ बडे किसानों को मंडी और ठेका खेती को लेकर ऐसा उकसाया कि वे महीने भर से दिल्ली में धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। जब किसानों के मुद्दे पर सरकार से महत्वपूर्ण वार्ता होने वाली है, तब वे बिना कोई कारण बताये इटली चले गए। वे संसद का सत्र छोड कर भी छुट्टी मनाने विदेश जा चुके हैं।

राहुल गांधी और तेजस्वी प्रसाद यादव ने बार-बार साबित किया कि वंशवादी राजनीति के राजकुमार देश को जिम्मेदार विपक्ष नहीं दे सकते। बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी चमकी बुखार, बाढ-जल जमाव और विधान मंडल सत्र के समय बिहार से गायब रह चुके हैं। देश जानना चाहता है कि जो लोग प्रधानमंत्री की पारदर्शी और उद्देश्यपूर्ण कूटनीतिक विदेश यात्राओं पर अनर्गल सवाल पूछते थे, वे अपनी यात्राएँ इतनी रहस्यमयी क्यों रखना चाहते हैं? अजीब बात है कि कांग्रेस के 99 . 9 फीसद लोग जिसे दोबारा अध्यक्ष बनाना चाहते हैं, वह पार्टी के स्थापना दिवस पर अपनी ननिहाल में समय बिताना चाहता है !

कांग्रेस ने संसद से पारित तीन कृषि कानूनों की वापसी के लिए 2 करोड किसानों के हस्ताक्षर लेने का जो दावा किया है, उसके लिए हस्ताक्षर अभियान कब चलाया गया? बिहार में कांग्रेस कहीं हस्ताक्षर अभियान चलाती नहीं दिखी। यूथ कांग्रेस ने भी ऐसे अभियान से इनकार किया है। जाहिर है कि राहुल गांधी ने फर्जी दस्तखत वाला ज्ञापन राष्ट्रपति को सौंपने का गंभीर अपराध किया है। इस मामले की जांच कर उन पर मुकदमा दर्ज होना चाहिए।