39 C
Delhi
Homeबिहारसमस्तीपुर: आध्यात्मिक शांति से ही भारत विश्व गुरू था और फिर से...

समस्तीपुर: आध्यात्मिक शांति से ही भारत विश्व गुरू था और फिर से बनेगा- साध्वी शीतली भारती

- Advertisement -spot_img

समस्तीपुर,मोरवा/(राजेश कुमार राजू): दिव्य ज्योति जागृति केंद्र की साध्वी शीतली भारती ने कहा है कि आध्यात्मिक शांति से ही भारत पहले भी विश्व गुरू था और फिर से विश्व गुरु बनेगा. साध्वी शीतली भारती ने यहां चल रहे एक यज्ञ के दौरान उक्त बातें शनिवार को पत्रकारों एवं श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कही. साध्वी शीतली भारती ने कहा कि भारत की नारियां जब जब आध्यात्मिक रूप से सशक्त हुई है तब तब भारत विश्व में अपनी महानता का झंडा बुलंद किया है. भारत की महान नारियों की सत्ता के कारण है भारत विश्व गुरु था और फिर से बनेगा. साध्वी शीतली भारती ने कहा कि परम पूज्य गुरुदेव आशुतोष महाराज की पांच हजार से अधिक साध्वी विश्व शांति एवं मानव में आध्यात्मिक क्रांति के लिए जीवन दान देकर विश्व कल्याण के लिए निकल पड़ी हैं. महिला सशक्तिकरण के युग में पूज्य गुरु महाराज द्वारा महिलाओं के सशक्तिकरण एवं आध्यात्मिक शक्ति के द्वारा दिव्य ज्योति का जागरण कर महिलाओं में आध्यात्मिक ऊर्जा आने से ही ईश्वर यह संतानों का प्रादुर्भाव होगा और भारत फिर से विश्व गुरु बनेगा.

उन्होने बताया की दिव्य ज्योति जागृति केंद्र महिलाओं के सशक्तिकरण तिलक दहेज का विरोध एवं सामाजिक कुरीतियों को दूर कर समाज में महिलाओं को भगवती की तरह फिर से पूजनीय बनाने का संकल्प लिया है. भारत में जब-जब नारी को सम्मान मिला है भारत महान बना है. जबकि नारियों को अपमानित करने पर सारा समाज सर्वनाश के कगार पर पहुंच गया. आध्यात्मिक ऊर्जा संपन्न नारियों को सशक्त सशक्त बनाने से ही पुरुष समाज सशक्त एवं ज्ञानी बन कर संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शक बनेगा. इसके लिए संस्था के सभी साध्वी विश्व कल्याण के लिए कृत संकल्पित है और भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए संपूर्ण विश्व में आध्यात्मिक ऊर्जा का संचार कर रही हैं. मौके पर स्वामी विरेन्द्रानंद सरस्वती सहित काफी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे.

शिव शक्ति महायज्ञ के लिए किया गया भूमि पूजन

समस्तीपुर/मोरवा : राजकीय मेला क्षेत्र बाबा केवल स्थान इंद्र बारा में शनिवार को नौ कुंडीय सात दिवसीय शिव शक्ति महायज्ञ के लिए भूमि पूजन समारोह का आयोजन किया गया. आचार्य चंद्रशेखर शास्त्री ने मुख्य यजमान उमेश सहनी, राज नारायण सहनी, देवू सहनी को वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच भूमि पूजन कराते हुए महायज्ञ के लिए ध्वजारोहण कराया. इस अवसर पर उपस्थित विधायक विद्यासागर सिंह निषाद महायज्ञ के आयोजन पर हर्ष प्रकट करते हुए इसकी सफलता की मंगल कामना की. मौके पर वृंदावन के संत हेतिराजाचार्य, विपत साहनी, फूलचंद सहनी, धर्मराज सहनी, लक्ष्मेश्वर साहनी, रतन सहनी, इंद्रजीत सहनी सहित सैकड़ों लोग मौजूद थे।.

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -