कभी गोलियों की तडतडहाट से गूंजता था इलाका, आज वहां के किसान उपजा रहें हैं सोना

सीतामढ़ी/ रंजीत मिश्रा : शिवहर जिला के जिस बागमती नदी के दियारा में कभी गोलियों के तड़तड़ाहट से भय का माहौल था,आज बागमती के दियारा क्षेत्र किसानों के लिए वरदान बना हुआ है। बागमती ‌दियारा में उपजे तरबूज,ककड़ी व सब्जी का आनंद जिले में ही नहीं, बल्कि पड़ोसी देश नेपाल ,उतर प्रदेश सहित बिहार के दूसरे हिस्से में भी लोग ले रहे हैं ।

यहां किसान कम लागत से खेती कर दोगुना से अधिक लाभ कमा रहे हैं। दियारा की इस बदली सूरत का हाल जानने और किसानों के उत्पाद का सही लाभ दिलाने को लेकर शिवहर डीएम सज्जन आर डैम के निरीक्षण के दौरान बेलवा मे आलाधिकारियों के साथ पहुंचे थे तो वहां चारों तरफ उपजी फसलों को देखकर वह काफी खुश नजर आए, वहीं उत्पाद को बाजार में अच्छी दाम मिले इसको लेकर अधिकारियों को कई निर्देश भी उनके द्वारा दिया गया है।

डर के कारण कोई नहीं जाता था उस इलाके में

शिवहर जिला के पिपराही प्रखंड के बेलवा, इनरवा, नरकटिया, मोधोपुर, पिपराही सहित तरियानी छपरा तक फैले बागमती नदी के दियारा इलाके का हज़ारों एकड़ भूमि पर दशकों तक गूंजती गोलियों की तड़तड़ाहट एवं कुख्यात अपराधियों के शरण स्थली होने के कारण डर से कोई दिन में भी जाने के हिम्मत नही करते था। लेकिन आज के दशक में वही दियारा की भूमि किसानों के तरबूज,ककरी व हरि सब्जी के फसल से लहलहाती नजर आ रही है ।

किसान तरबूज ,ककड़ी एवं हरी सब्जी उत्पादन कर खुशहाली से जीवन व्यतीत कर रहे हैं। आज तरबूज,हरा सब्जी के लिए व्यपारी सड़क किनारे गाड़ी लगाकर किसानों का इंतजार करते है। डीएम सज्जन आर ने किसानों से भी बात कर फसल उगाने व उत्पाद बेचने में हो रही समस्या की जनकारी लिया गया है।वही जीविका दीदियों की भी सहभागिता करने का निर्देश पदाधिकारियो को दिया गया है।