बिहार में UP से लाखों लीटर डीजल की हो रही तस्करी, पंप मालिकों का कारोबार हो रहा है बर्बाद

स्टेट डेस्क: उत्तर प्रदेश सीमा से लगे बिहार के जिलों में लाखों लीटर डीजल की तस्करी से हो रही है, जिससे बिहार के पेट्रोल पंप मालिकों का कारोबार बर्बाद हो रहा है। राज्य सरकार को भी डीजल के अवैध कारोबार से करोड़ों रुपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है। बिहार में डीजल यूपी से 6 से 7 रुपए महंगा है। वजह है नीतीश सरकार द्वारा 2016 में पेट्रोल और डीजल पर बहुत ज्यादा वैट और सरचार्ज लगाना, जिससे शराबबंदी के बाद बिहार सरकार शराब से होने वाली कमाई की भरपाई कर सके। अकेले भभुआ जिला में हर महीने 80 लाख डीजल बिकता था जो घटकर 32 लाख लीटर रह गया है।



मामले पर नजर रखने वाले लोग बताते हैं कि सड़क, रेल और अन्य परियोजनाओं के लिए बिहार में काम कर रहीं कंपनियां उत्तर प्रदेश से डीजल खरीद कर अवैध रूप से छोटे टैंकरों में बिहार ला रही हैं। इस कारण बिहार सरकार को करोड़ों रुपए के वैल्यू ऐडेड टैक्स (वैट) का नुकसान हो रहा है। वहीं दूर-दराज के इलाकों में खुदरा बिक्री और किसानों के इस्तेमाल के लिए भी उत्तर प्रदेश से डीजल लाकर बेचा जा रहा है।

तस्करी के लिए इस्तेमाल हो रहे टैकर सुरक्षा की दृष्टि से भी खतरनाक हैं। बिना लाइसेंस के टैंकरों से कभी भी गुर्घटना घट सकती है। पेट्रोलियम और विस्फोटक सुरक्षा संगठन (PESO) द्वारा लाइसेंस प्राप्त टैंकरों को ही केवल डीजल की आवाजाही के लिए अनुमति है। उत्तर प्रदेश से बिहार में अवैध टैंकरों से तस्करी हो रही है। पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के संभागीय अध्यक्ष पीयूष शुक्ला के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को भभुआ के जिला अधिकारी और पुलिस अधीक्षक से मुलाकात की। डीएम और एसपी ने तस्करी को रोकने के और अवैध टैकरों के खतरों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।