बेगूसराय : अंतिम चरण में टिकट आवंटन, जदयू कार्यकर्ता भी जमशेद अशरफ पर जता रहे हैं भरोसा

0
270

पटना (नियाज आलम) लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर एनडीए के घटक दलों के बीच सीट शेयरिंग का फार्मूला काफी पहले ही तय हो चुका है। अब घटक दलों द्वारा अपने-अपने उम्मीदवारों का चयन बाकी रह गया है।

हालांकि सूत्रों की माने तो सभी घटक दलों में विभिन्न लोकसभा सीटों के लिए उम्मीदवारी भी तय हो चुकी है, केवल औपचारिक घोषणा ही बाकी रह गई है।

उसके मुताबिक इसी क्रम में राजनीतिक और सामाजिक नजरिये से सूबे का महत्वपूर्ण जिला बेगूसराय से भी एनडीए के उम्मीदवार के तौर पर नीतीश सरकार के पूर्व मंत्री जमशेद अशरफ के नाम पर आलाकमान की मुहर लग चुकी है।

जमशेद अशरफ की मजबूत दावेदारी का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि जिले से उनकी उम्मीदवारी को अन्दरखाने जदयू कार्यकर्ताओं का भी समर्थन मिलने लगा है।

सूत्रों की माने तो बेगूसराय जिला जदयू ने बाकायदा पत्र लिखकर पूर्व मंत्री को एनडीए की ओर से लोकसभा चुनाव 2019 का उम्मीदवार बनाने की अनुसंशा की है।   

गौरतलब है कि बेगूसराय सीट पर भाजपा कोटे से दावेदारी के लिए पार्टी के एमएलसी रजनीश कुमार, पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व लोकसभा उम्मीदवार राम लखन सिंह, पार्टी के पूर्व विधानसभा प्रत्याशी सर्वेश कुमार और बेगूसराय के मेयर उपेंद्र सिंह भी रेस में हैं।

हालांकि राजनीतिक जानकारों की भी मानें तो बेगूसराय के मौजूदा सियासी हालात में जिले के गैर भाजपाई चक्रव्यूह को भेदने में कोई अल्पसंख्यक उम्मीदवार ही एनडीए के लिए अर्जुन की भूमिका अदा कर सकता है।

ऐसे में पूर्व मंत्री जमशेद अशरफ ही गठबंधन के लिए सबसे कारगार योद्धा साबित हो सकते हैं। जातिगत समीकरण के लिहाज से भी यह माना जा रहा है कि जमशेद अशरफ एनडीए के लिए लंबी रेस का घोड़ा साबित हो सकते हैं।

बता दें कि अपने सांसद के तौर पर जिले की जनता की जो पुकार है, उसके मुताबिक भी जमशेद अशरफ का व्यक्तित्व सबसे सटीक बैठता है। हालांकि ये तो आने वाला समय ही बताएगा कि बेगुसराय के चुनावी दंगल में एनडीए का पहलवान कौन होगा।