पुलवामा हमले के बाद शबाना आजमी और जावेद अख्तर नहीं जाएंगे कराची, ठुकराया पाकिस्तान का न्योता

0
130

सेंट्रल डेस्क : मशहूर अभिनेत्री शबाना आजमी और उनके पति प्रसिद्ध गीतकार-लेखक जावेद अख्तर मशहूर शायर कैफी आजमी की जयंती विशेष पर कराची में आयोजित कार्यक्रम में शरीक होने नहीं जाएंगे। दोनों ने पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान का निमंत्रण ठुकरा दिया है। इन दोनों कलाकारों को कराची कला निगम की ओर से इस दो दिवसीय कार्यक्रम में बुलाया गया था।

मालूम हो कि शबाना आजमी के पिता और जावेद अख्तर के ससुर कैफी आजमी मशहूर शायर रहे हैं। दोनों के इस निर्णय की सराहना हो रही है। फॉलोअर्स उनके इस निर्णय के लिए सैल्यूट कर रहे हैं और आभार व्यक्त कर रहे हैं।

जावेद अख्तर ने ट्वीट कर लिखा कि कराची आर्ट काउंसिल ने शबाना और मुझे दो दिन पहले कैफी आजमी और उनकी कविताओं के बारे में होने वाले लिटरेटर कॉन्फ्रेंस में आमंत्रित किया था। हमने इसे रद्द कर दिया है। 1965 में इंडो पाक युद्ध के दौरान कैफी साहब ने एक कविता लिखी थी ”और फिर कृष्णा ने अर्जुन से कहा”। वहीं दूसरी ओर शबाना आजमी ने भी अपने ट्विटर एकाउंट पर लगातार इस संबंध में रिट्वीट किया है।

इससे पहले जावेद अख्तर ने हमले के तुरंत बाद निंदा की थी। उन्होंने ट्वीट किया था कि उनका CRPF से विशेष संबंध है। उनके लिए एंथम सॉन्ग लिखने से पहले उन्होंने कई सीआरपीएफ अधिकारियों से मुलाकात की थी। बहादुर जवानों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए शबाना आजमी ने भी हमले की कड़ी आलोचना की थी।