39.1 C
Delhi
Homeज़िंदगानीआंत के कैंसर पर विदेशों में नियंत्रण किन्तु, भारत में नहीं...

आंत के कैंसर पर विदेशों में नियंत्रण किन्तु, भारत में नहीं : डॉ रीना इंजीनियर

- Advertisement -spot_img

पटना : आंत के कैंसर पर अन्य देशों में बेहतर काम हुआ है जिससे विदेशों में आंत के कैंसर रोगियों की संख्या में कमी आयी है। किन्तु, भारत का परिदृश्य इसके ठीक विपरीत है। यह बातें टाटा मेमोरियल मुम्बई के प्रसिद्व रेडियेशन कैंसर विशेषज्ञ डॉ रीना इंजीनियर ने कही। शुक्रवार को डॉ. रीना इंजीनियर महावीर कैंसर संस्थान में आंत के कैंसर पर आयोजित सीएमई का उदघाटन करते हुये कहा कि गुदा मार्ग के कैंसर में रेडियोथिरैपी की भूमिका पर भी प्रकाश डाला।

मुख्य अतिथि के तौर पर प्रख्यात गैस्ट्रोइन्टेरोलोजिस्ट डॉ बीके अग्रवाल ने कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में इस प्रकार का शैक्षणिक कार्यक्रमों का स्थान अति महत्वपूर्ण है। उन्होंने महावीर कैंसर संस्थान की तारीफ करते हुए कहा कि इस संस्थान से बिहार एवं पड़ोसी राज्यों के गरीब मरीजों का बड़ा कल्याण हो रहा है।

स्वागत भाषण करते हुए संस्थान के निदेशक डॉ विश्वजीत सन्याल ने कहा कि आरम्भ में आंत के कैंसर के सर्जरी के सिवा और कोई उपाय नहीं था। किन्तु, आज कई उपाय हैं और इसमें रेडियोथिरैपी एवं कीमोथिरैपी का भी महत्वपूर्ण भूमिका है।

संस्थान के रेडियोथिरैपी विभाग की प्रमुख डॉ. विनीता त्रिवेदी ने कहा कि रेडियोथिरैपी से शरीर के आंतरिक अंगों यथा आंत के कैंसर और गुदा मार्ग के कैंसर का भी इलाज किया जा सकता है।
संस्थान की एसोसियेट निदेशक डॉ. मनीषा सिंह ने कहा कि खान-पान पर विशेष ध्यान देते हुए फास्टफ़ूड से परहेज करना चाहिये।

नोएडा स्थित जेपी अस्पताल के आॅन्को सर्जन डॉ आशीष गोयल ने कहा कि आंत के कैंसर में सर्जरी की भूमिका को नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कई कठिन सर्जरी का पावर प्वाइंट से प्रदर्श कर अपना व्याख्यान दिया।

सीएमई में पटना के अनेक गैस्ट्रो, रेडियेशन और सर्जरी के चिकित्सकों ने भाग लिया जिसमें आईएसजी एसोसियेसन बिहार झारखण्ड चैप्टर के अध्यक्ष डॉ संजीव ठाकुर, सचिव आशीष झा, आईजीआईएमएस के अधीक्षक डॉ मनीष मंडल, कैंसर विभाग के डॉ राजेश कुमार सिंह, सवेरा अस्पताल के डॉ वीपी सिंह, एनएमसीएच के डॉ अनिता कुमारी, डॉ. मनोज कुमार, डॉ उत्पल आनन्द, महावीर कैंसर संस्थान के अधीक्षक डाएलबी सिंह, डॉ बीबी पाण्डेय, डॉ पीसी झा,
डॉ उषा सिंह, डॉ अमित कुमार आदि ने भाग लिया। मंच संचालन डॉ ऋचा चैहान ने किया और धन्यवाद ज्ञापन डॉ रीता रानी ने किया।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -