33.1 C
Delhi
HomeHealthकानपुर देहात : अस्पताल की बड़ी लापरवाही, बच्चे को चढ़ा दिया एक्सपायरी...

कानपुर देहात : अस्पताल की बड़ी लापरवाही, बच्चे को चढ़ा दिया एक्सपायरी ग्लूकोज

- Advertisement -

-कानपुर देहात अस्पताल में लापरवाही का खेल, निरीक्षण में स्टॉक में मिलीं 15 और एक्सपायरी बोतल
घटना में वार्ड इंचार्ज और फार्मासिस्ट निकले दोषी, डीएम ने बनायी जांच कमेटी, वेतन भी रोका
अखिलेश मिश्रा/कानपुर देहात।
सीएम योगी जितना स्वास्थ्य विभाग को अपडेट करने में लगे है। विभागीय कर्मचारी अपनी कार्यशैली से सवालिया निशान लगा रहे है। कानपुर देहात जिला अस्पताल में बच्चे के इलाज के दौरान नर्स ने बिना एक्सपायरी डेट देखे ग्लूकोज लगा दिया।

बच्चे के पिता की नजर जब बोतल पर पड़ी तो उन्होंने एक्सपायरी डेट को देखा और तेजी से बोतल को बंद कर दिया। हंगामा करने पर मामला तूल पकड गया। डीएम के आदेश पर चेकिंग हुई तो 15 बोतलें और स्टॉक में एक्सपायरी रखी थी। लापरवाही पर जांच के लिए डीएम ने जांच टीम गठित की और दोषी नर्स और फार्मासिस्ट और वार्ड इंचार्ज पर तत्काल कार्यवाही करते हुए वेतन रोकने के आदेश दिये।

अश्वनी पांडेय जो रूरा निवासी है। उनका नौ साल का बच्चा कुशाग्र फीवर से पीड़ित था। अश्वनी उसे दिखाने के लिए अस्पातल आएं यहां पर डाक्टरों ने उसे भर्ती करने के बाद उपचार शुरू किया। इलाज के दौरान नर्स शशि चौधरी ने उसे ग्लूकोज की बोतल लगायी गयी। अभी ड्पि चढ़ना शुरू ही हुई थी कि अचानक अश्वनी की नजर बोतल की डेट पर चली गयी। एक्सपायरी डेट देखकर वे सन्न रह गये और उन्होंने तत्काल ड्पि बंद कर दी और बोतल का मोबाइल से वीडियो बना लिया और विभागीय लोगों को बुलाकर हंगामा शुरू किया।

यह भी पढ़ें…

घटना की सूचना पर सीएमएस मौके पर पहुंचे और परिजनों को शांत कराया। तब मामला तूल पकड़ गया और डीएम जेपी सिंह ने संज्ञान लेते हुए एसीएओ वीपी सिंह व अतिरिक्त मजिस्टेट रामशिरोमणि को जांच के आदेश दिये। अधिकारियों ने जब जांच शुरू की तो वार्ड की दवा स्टोर में 15 बोतल ग्लूकोज एक्सपायरी और रखा था। बोतल को बरामद करके उन्हें सील कर दिया गया। सीएमएस ने बताया कि पूरे प्रकरण में वार्ड इंचार्ज कंचन देवी, फार्मासिस्ट इंद्रपाल भाटिया और नर्स शशि देवी दोषी पायी गयी है।

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -