30.1 C
Delhi
HomeHealthबढ़ती गर्मी एक्सट्रीम वेदर कंडीशन की ओर कर रही इशारा, कनाडा का...

बढ़ती गर्मी एक्सट्रीम वेदर कंडीशन की ओर कर रही इशारा, कनाडा का तापमान 49.6 डिग्री पहुंचा

- Advertisement -

सेंट्रल डेस्क: अगर हम भारत में बढ़ते तापमान और गर्मी की बात करें तो जयपुर, भोपाल, पटना, लखनऊ और दिल्ली में प्रचंड गर्मी लोगों को सता रही है। एक बार दुनियाभर में भी बदलते मौसम पर भी नज़र डाले, जहां मौसम में कैसी तबाही मची हुई है। इसका अंदाज़ा लगा सकते हैं।

कनाडा में पहली बार पारा 49.6 डिग्री पहुंचा, उस दिन गर्मी से लोग चलते-चलते सड़कों पर गिरने लगे थे। उसी दिन अगर न्यूजीलैंड में हुए मौसम में हुए बदलाव पर बात करते हैं तो यहां इतनी बर्फ पड़ी कि सड़कें जाम हो गईं। अमेरिका, यूरोप, न्यूजीलैंड, अंटार्कटिका, खाड़ी के देशों से लेकर भारत-पाकिस्तान तक के मौसम में बदलाव हो रहे हैं। मौसम में ये बदलाव एक्सट्रीम वेदर कंडीशन कह सकते है, जो दुनिया की तबाही का इशारा करता है।

कनाडा में सामान्य नहीं यह बदलाव:

कनाडा में इन दिनों हीट डोम यानी ऐसी लू चल रही है, जैसी 10 हजार साल में शायद ही एक बार किसी देश में चलती है। लू के चलते कनाडा में औसत तापमान जो 16.4 डिग्री सेल्सियस रहता था, वो 49.6 डिग्री तक पहुंच गया है। इससे पहले कनाडा में यही स्थिति जुलाई 1937 में कई हिस्सों में दर्ज हुई थी। अब 84 साल बाद एक बार फिर गर्मी का कहर टूटा पड़ा है। जिसके चलते स्कूल-कॉलेज, यूनिवर्सिटी, ऑफिस सब बंद कर दिए गए हैं। गर्मी से 400 से ज्यादा के मरने की खबर भी मिली है। वैंकूवर, पोर्टलैंड, इडाहो, ओरेगन में सड़कों पर पानी का फव्वारा छोड़ने वाली मशीनें लगाई गयी हैं।

अमेरिका में भी गर्मी सता रही हैं: वॉशिंगटन के कश्मीर कहे जाने वाले सिएटल का पारा जून के आखिरी सप्ताह में 44 डिग्री दर्ज हुआ। यहां बीते 100 सालों में ऐसा नहीं हुआ था। अमेरिका के प्रशांत उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में बिजली सप्लाई रोक दी गयी हैं। लू और गर्मी इतनी प्रचंड है कि पॉवर सप्लाई करने पर आग लगने का खतरा बढ़ जाता है। यहां रहने वाली आबादी बिजली कटौती का सामना कर रही है।

क्या हैं कारण: पहली गर्म हवा अलास्का के अलेउतियन द्वीप समूह से आ रही है और दूसरी कनाडा के जेम्स बे और हडसन बे से। ये गर्म हवाएं इतनी असरदारक कि इनके सिस्टम के अंदर ठंडी समुद्री हवा घुस ही नहीं पा रही हैं।

आज तक कनाडा में इतनी गर्मी नहीं पड़ी थी। इस साल पूर्वी यूरोप के देश हंगरी, सर्बिया और यूक्रेन भी तप रहे हैं। ये क्लाइमेट चेंज का प्रभाव है। भारत में भी दिल्ली का तापमान 40 डिग्री है। मौसम विभाग के अनुसार जल्द बारिश होने के असार हैं।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -