35.1 C
Delhi
HomeझारखंडNIA ने रांची के कई ईलाकों में की छापेमारी, डोरंडा और अरगोड़ा...

NIA ने रांची के कई ईलाकों में की छापेमारी, डोरंडा और अरगोड़ा में हो रही जांच

- Advertisement -spot_img

पटना: रांची में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की टीम ने छापेमारी की है। NIA की टीम ने एक साथ राजधानी के कई इलाके में छापेमारी की। गुरुवार सुबह चार बजे टीम डोरंडा इलाके में पहुंची और एक घर में पहुंच छानबीन में जुट गई। इसके बाद टीम अरगोड़ा भी पहुंची। कुल तीन जगहों पर टीम ने छापेमारी की है। डोरंडा में मूसा अंसारी नाम के युवक के घर टीम पहुंची है। जहां एनआईए की टीम के साथ काफी संख्‍या में पुलिस बल भी मौजूद हैं। फिलहाल जांच जारी है। फिलहाल, एनआईए के अधिकारी और स्थानीय पुलिस इस बारे में कुछ भी नहीं बता रहे हैं। मामला मगध-आम्रपाली कोल परियोजना से जुड़ा बताया जा रहा है।

मामला टेरर फंडिंग से जुड़ा हो सकता है
टीपीसी उग्रवादियों को टेरर फंडिंग मामले में एनआईए ने रांची से कोयला ट्रांसपोर्टर सुधांशु रंजन उर्फ छोटू सिंह को 12 नवंबर 2018 को गिरफ्तार किया था। मूल रूप से चतरा जिले के सिमरिया निवासी सुधांशु रंजन का रांची में भी आवास है। फिलहाल, सुधांशु जेल में बंद है। एनआईए को जानकारी मिली थी कि सुधांशु का टीपीसी उग्रवादियों से साठगांठ है। उग्रवादियों को लेवी पहुंचाने में उसकी अहम भूमिका है। वह टीपीसी नेता आक्रमण उर्फ नेताजी के लिए ऊंची दर पर कोयले की ढुलाई करता है। ट्रांसपोर्टिंग से जो अधिक राशि वसूली जाती है, उसे सुधांशु टीपीसी नेता आक्रमण तक पहुंचाता था। 

कोयला ट्रांसपोर्टर सुधांशु रंजन के खाते में मिले थे 17 करोड़ रूपए
टीपीसी उग्रवादियों को टेरर फंडिंग मामले में गिरफ्तार कोयला ट्रांसपोर्टर सुधांशु रंजन उर्फ छोटू सिंह के बैंक खाते में पांच दिसंबर 2018 को एनआईए को 17 करोड़ रुपए मिले थे। एनआईए ने खाता फ्रीज करा दिया था। एनआईए ने सुधांशु को चतरा के सिमरिया से 12 नवंबर को गिरफ्तार किया था। तब से वह जेल में है। 

मगध-आम्रपाली कोल परियोजना से कोयला लेकर छोटू सिंह टोरी रेलवे साइडिंग तक जाता था। उसने मां वैष्णो इंटरप्राइजेज नाम से कंपनी बना रखी थी। इसी के जरिए वह ट्रांसपोर्टिंग का काम करता था। एनआईए को जानकारी मिली थी कि सुधांशु का टीपीसी उग्रवादियों से साठगांठ है। उग्रवादियों को लेवी पहुंचाने में उसकी अहम भूमिका है। वह टीपीसी नेता आक्रमण उर्फ नेताजी के लिए ऊंची दर पर कोयले की ढुलाई करता है। ट्रांसपोर्टिंग से जो अधिक राशि वसूली जाती है, उसे सुधांशु आक्रमण तक पहुंचाता था।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -