30.1 C
Delhi
HomeLocal newsBarabanki : मुख्तार अंसारी की बांदा जेल से सीजेएम कोर्ट में वीडियो...

Barabanki : मुख्तार अंसारी की बांदा जेल से सीजेएम कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई तीसरी पेशी

- Advertisement -

बाराबंकी/सोभित शुक्ला : उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में सोमवार को बाहुबली बसपा विधायक मुख्तार अंसारी की बांदा जेल से सीजेएम कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए तीसरी पेशी हुई। कोर्ट में पेश होते ही सबसे पहले मुख्तार अंसारी ने जज से कहा कि साहब मेरे बैरक में टीवी लगवाने का आदेश जारी कर दीजिए। वर्ल्ड कप चल रहा है। स्पोर्ट्स प्लेयर रह चुका हूं। मैं हमेशा आपका ऋणी रहूंगा।

मुख्तार के वकील रणधीर सिंह सुमन के मुताबिक मुख्तार अंसारी की गुजारिश पर जज ने कहा कि बांदा जेल से रिपोर्ट आ गई है। आज ऑर्डर करूंगा, मुख्तार अंसारी के वकील ने यह भी बताया कि जब मुख्तार अंसारी से कहा गया कि एम्बुलेंस के मामले में चार्ज शीट आ गई है तो उसने कहा अल्लाह का शुक्र है।

मुख्तार अंसारी ने कोर्ट से कहा कि मैं तो 16 साल से जेल में बंद हूं. मुझे कैसे इस मुकदमे में आरोपी बना दिया गया। मेरे खिलाफ कोई भी आरोप नहीं बनता है। यह सिर्फ राजनैतिक विद्वेष की वजह से चार्जशीट दाखिल की गई है
कोर्ट ने केस की अगली तारीख 19 जुलाई तय की है। मुख्तार अंसारी ने सुनवाई के दौरान कोर्ट से टीवी वाली बात फिर दोहराई।

टीवी देखने को बेचैन है बाहुबली :
मुख्तार अंसारी ने कोर्ट से कहा, ‘पूरे यूपी में जेल के बैरकों में टेलीविजन सुविधा है। लेकिन मेरे बैरक से ये सुविधा छीन ली गई है। अगर आप मुझे टीवी की सुविधा उपलब्ध करवा दें तो हम जिंदगी भर आपके ऋणी रहेंगे.’ मुख्तार अंसारी की अपील पर सीजेएम ने कहा कि आज इस पर ऑर्डर करूंगा।

मुख्तार अंसारी ने कहा, ‘जेल वाले टीवी न देने पर ये कह सकते हैं कि हमारे पास बजट नहीं है, जिससे हमारे बैरक में लग सके. ऐसा सिर्फ राजनीतिक विद्वेष की वजह से हो रहा है। बांदा पुलिस अधीक्षक ने खुद टीवी को मेरे बैरक से हटवा दिया है। जेल अधिकारी अगर वह टीवी लगवा देते हैं तो बांदा के पुलिस अधीक्षक इन जेल के अधिकारियों को परेशान कर सकते हैं।

आरोपों का करता रहा खण्डन :
मुख्तार को जब सीजेएम ने बताया कि एम्बुलेंस के मुकदमे में आरोप पत्र दाखिल किया जा चुका है, तो मुख्तार ने कहा कि अल्लाह का शुक्र है कि पुलिस ने आरोप पत्र दाखिल कर दिया। उसने यह भी कहा कि मैं 16 साल से जेल में हूं मेरे खिलाफ कोई भी आरोप नहीं बनता है। वहीं इस एम्बुलेंस कांड में गिरफ्तार हो चुके राजनाथ यादव की जमानत अर्जी डाली गई थी, जिसमें कहा गया कि समय से पुलिस चार्ज शीट दाखिल नहीं कर पाई है इसलिए जमानत दी जाए।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -