28.1 C
Delhi
HomeLocal newsबेगूसराय : सरकारी योजनाओं को प्राथमिकता में रखते हुए ससमय ऋण उपलब्ध...

बेगूसराय : सरकारी योजनाओं को प्राथमिकता में रखते हुए ससमय ऋण उपलब्ध कराएं बैंक

- Advertisement -

बेगूसराय/विनोद कर्ण। जिला पदाधिकारी अरविंद कुमार वर्मा की अध्यक्षता में शुक्रवार को जिला स्तरीय परामर्शदातृ समिति (डीएलसीसी/डीएलआरएसी) की बैठक कारगिल विजय सभा भवन में आहूत की गई। इस अवसर पर सदस्य, बिहार विधान परिषद् सर्वेश कुमार, प्रभारी पदाधिकारी बैंकिंग शाखा निशांत कुमार अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक, बेगूसराय मोती साह, डीडीएम नाबार्ड सुमित कुमार सिंह सहित विभिन्न बैंकों के प्रतिनिधि आदि मौजूद थे।

जिलाधिकारी ने बैठक में जिले के बैंकों के सीडी रेशियो एवं एनुअल क्रेडिट प्लान (एसीपी) की स्थिति, किसान क्रेडिट योजना (केसीसी), प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना एवं अन्य मामलों की समीक्षा की तथा सभी बैंक प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा कि यदि कोई व्यक्ति बैंकिंग सुविधाओं से लाभान्वित होने को इच्छुक है तथा पात्रता को पूरा करते हैं तो उन्हें पर्याप्त सहयोग उपलब्ध कराएं।

उन्होंने बैंकों को वित्तीय समावेशन का महत्वपूर्ण जरिया बताते हुए कहा कि बैंक न सिर्फ रोजगारपरक समाज के निर्माण में सहायक है बल्कि अपनी वित्तीय गतिविधियों से नागरिकों के आर्थिक सामाजिक सशक्तिकरण में प्रभावी भूमिका अदा कर सकता है। उन्होंने बैठक में मौजूद बैंकों के प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं को प्राथमिकता में रखते हुए आवेदकों को उनकी पात्रता के अनुरूप ससमय ऋण आदि उपलब्ध कराएं।

बेगूसराय का सीडी रेसियो राज्य के औसत से अधिक : बैठक के दौरान जिला पदाधिकारी द्वारा जिले के विभिन्न बैंकों की सीडी रेसियों की समीक्षा के दौरान अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक व्दारा बताया गया कि मार्च, 2021 तिमाही के दौरान जिला का औसत सीडी रेसियो 57.49 प्रतिशत हैं, जो कि राज्य के औसत सीडी रेशियो 40 प्रतिशत से अधिक हैं। हालांकि, इस अवधि के दौरान जिले के कुछ ऐसे भी बैंक हैं, जिनका सीडी रेशियो 50 प्रतिशत से नीचे रहा है।

जिला पदाधिकारी ने ऐसे बैंकों यथा बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक के प्रतिनिधियों को अपने प्रदर्शन में सुधार लाने का निर्देश दिया तथा अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक को निर्देशित करते हुए कहा कि संबंधित बैंक के जिला समन्वयक के साथ इन बैंकों के कमतर प्रदर्शन के कारणों की समीक्षा करें तथा इन बैंकों में ऋण योजनाओं से संबद्ध लंबित आवेदनों का अविलंब निष्पादन करना सुनिश्चित करें।

एनुएल क्रेडिट प्लान (एसीपी) की स्थिति की समीक्षा के दौरान अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक द्वारा बताया गया कि जिले के लिए मार्च, 2021 तिमाही अवधि का कुल एसीपी 93.94 प्रतिशत है, जो पिछली वित्तीय वर्ष की अपेक्षा अधिक है। उन्होंने बताया कि प्राथमिकता क्षेत्र वाले ऋण में लक्ष्य का 111 प्रतिशत हासिल हुआ। जिला पदाधिकारी ने इस उपलब्धि पर जिले के सभी बैंकों की सराहना की।

पीएम स्वनिधि योजना को जुलाई अंत तक शत-प्रतिशत पूरा करने पर बल : जिलाधिकारी ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना की समीक्षा के दौरान कहा कि यह वित्तीय समावेशन एवं रोजगार सृजन की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण योजना है। इसलिए इस योजना के तहत प्राप्त आवेदनों के संबंध में ससमय कार्रवाई करते हुए आवेदकों को निर्धारित राशि उपलब्ध कराएं।

अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक द्वारा बताया गया कि जिले में इस योजना के तहत अब तक कुल 2,635 आवेदन प्राप्त हुए हैं जिसमें से 1,503 आवेदनों को स्वीकृति प्रदान करते हुए 894 लाभुकों को राशि उपलब्ध करा दी गई है। शेष आवेदनों के संबंध में भी 20 जुलाई, 2021 तक आवश्यक कार्रवाई करते हुए शत-प्रतिशत लाभुकों को आच्छादित कर लिया जाएगा।

पीएम रोजगार गारंटी की तिमाही उपलब्धि 63.30 : प्रधानमंत्री रोजगार गांरटी योजना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि कुल लक्ष्य 109 के विरुद्ध अब तक 69 व्यक्तियों को स्वीकृति प्रदान की गई है. जो लक्ष्य का 63.30 प्रतिशत है। जिला पदाधिकारी ने इस योजना को रोजगार में वृद्धि के उद्देश्य से महत्वपूर्ण बताते हुए सभी लंबित आवेदनों को ससमय निष्पादित करने का निर्देश दिया गया।

इसी क्रम में अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक के सुझाव पर जिला पदाधिकारी ने जिले में इस योजना के सुचारु क्रियान्वयन हेतु उप विकास आयुक्त की अध्यक्षता में 8 सदस्यीय समिति जिसमें प्रभारी पदाधिकारी बैंकिंग, महाप्रबंधक जिला औद्योगिक केंद्र, अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक के साथ-साथ यूको बैंक, एसबीआई, दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक के प्रतिनिधि शामिल है, के गठन का निर्देश दिया। समिति द्वारा नियमित अंतराल पर इस योजना के प्रगति की समीक्षा की जाएगी तथा योजना के अंतर्गत प्राप्त आवेदनों पर की जाने वाली कार्रवाई का अनुश्रवण भी करेगी।

केसीसी योजना के त्रिमासिक उपलब्धि 75.42 फीसदी : बैठक के दौरान किसान क्रेडिट कार्ड योजना (केसीसी) की समीक्षा के क्रम में बताया गया कि मार्च, 2021 तिमाही के दौरान इस योजना के अंतर्गत कुल उपलब्धि 75.41 प्रतिशत है। इस दौरान बैंक वार समीक्षा के क्रम में जिला पदाधिकारी ने कमतर प्रदर्शन करने वाले बैंकों के प्रति खेद प्रकट किया तथा योजना में प्रगति लाने हेतु गंभीरता से कार्य करने का निर्देश दिया।

इस क्रम में प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा योजना, अटल पेंशन योजना, क्षेत्र विकास योजना के तहत डेयरी, मत्स्य पालन, पोल्ट्री के साथ साथ शिक्षा एवं आवास योजना, जीविका से संबंधित एसएचजी एवं जेएलजी, पीएमईजीपी मुद्रा आदि की भी समीक्षा की गई तथा आवश्यक प्रगति लाने का निर्देश दिया गया।

यह भी पढ़ें…

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -