31.1 C
Delhi
HomeLocal newsKANPUR Big news : बड़ा चौराहा से नरौना के बीच मेट्रो सुरंग...

KANPUR Big news : बड़ा चौराहा से नरौना के बीच मेट्रो सुरंग बनाने की तैयारी पूरी

- Advertisement -spot_img

कानपुर/बीपी प्रतिनिधि। कानपुर मेट्रो के सेकेंड फेज का कार्य तेजी से किया जा रहा है। बड़ा चौराहा से नरौना के बीच मेट्रो ट्रेन का रूट अंडरग्राउंड है। इसी के तहत बड़ा चौराहा से नरौना के बीच मेट्रो सुरंग बनाने के लिए तैयारियां पूरी हो गई है। सिंगापुर और लखनऊ से आई टनल बोरिंग मशीन की असेंबलिंग भी होने लगी है।

बड़ा चौराहा से जमीन के नीचे मशीन ले जाने के लिए लांचिंग शॉफ्ट तैयार कर लिया गया है। अगले माह से काम शुरू हो जाएगा। मेट्रो के भूमिगत सेक्शन एक के निर्माण के लिए दो टीबीएम मशीनों का इस्तेमाल होगा। चार किलोमीटर लंबे इस सेक्शन में दो लांचिंग शॉफ्ट तैयार किए जाने थे। पहला बड़ा चौराहा पर और दूसरा चुन्नीगंज में। पहले लांचिंग शॉफ्ट का निर्माण पूरा हो चुका है। यह शॉफ्ट आयताकार है और इसकी लंबाई लगभग 21 मीटर, चौड़ाई लगभग 24 मीटर और गहराई लगभग 17.5 मीटर है।

भूमिगत ट्रैक के लिए 5.8 मीटर ऊंची होगी सुरंग : भूमिगत ट्रैक के लिए अप और डाउन मेट्रो की सुरंग की भीतरी ऊंचाई 5.8 मीटर की होगी। आप दो साल के भीतर मेट्रो ट्रेन में बैठकर सुरंग में जाने और बाहर निकलने का आनंद ले सकेंगे। एक मशीन 24 घंटे में 10 मीटर तक की पक्की सुरंग बनाएगी।

इसमें खुदाई से लेकर भीतर का पक्का आवरण तैयार करना शामिल है। सुरंग की बाहरी आवरण समेत कुल ऊंचाई 6.3 मीटर की होगी जिसके ऊपर एक मोटी सीमेंटेड चादर भी डाली जाएगी ताकि ऊपर का कोई दबाव सुरंग के आवरण पर न पड़े। खास बात यह है कि टनल मशीन एक साथ सुरंग और इसकी सुरक्षा की दीवार भी बनाती जाती जाएगी।

सितंबर से पहले दो तैयार हो जाए स्टेशनों के बीच का भूमिगत ट्रैक : बड़ा चौराहा से नरौना चौराहा (नयागंज मेट्रो स्टेशन) के बीच का टनल 100 से 110 दिन में तैयार हो जाएगी। इन दोनों स्टेशनों के बीच की दूरी एक किलोमीटर से भी कम है। अहम बात यह है कि बड़ा चौराहा से पहली टनल मशीन जब अप लाइन में 75 मीटर की पक्की सुरंग तैयार कर लेगी तभी दूसरी टनल मशीन डाउन लाइन में इसी तरफ से भेजी जाएगी ताकि दोनों मशीनें एक साथ न चलें। कंपन की आशंकाओं की वजह से ऐसा निर्णय लिया गया है। सितंबर से पहले दो स्टेशनों के बीच का भूमिगत ट्रैक तैयार हो जाएगा। इसी पैटर्न पर अन्य भूमिगत ट्रैक का भी काम होगा।

यह भी पढ़ें…

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -