15.1 C
Delhi
HomeLocal newsमुंबई : लॉकडाउन के डर से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूर

मुंबई : लॉकडाउन के डर से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूर

- Advertisement -

सेंट्रल डेस्क/दिवाकर श्रीवास्तव। कोरोना की पहली लहर में अचानक लॉकडाउन के बाद बड़े शहरों से घर लौटने वाले प्रवासियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा था। अब महामारी की तीसरी लहर में एक बार फिर लॉकडाउन लगने का खतरा मंडरा रहा है। यही कारण है कि मुंबई में प्रवासी मजदूर पलायन करने की लिए रेलवे स्टेशन पर डेरा जमाए हुए हैं। हर कोई यही प्रयास कर रहा है कि किसी भी प्रकार लॉकडाउन से पहले अपने र पहुंच जाएं।
विदित हो कि मुंबई में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के 20 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। ऐसे में टोटल लॉकडाउन की चर्चा से प्रवासी और खासतौर पर मजदूर बेहद डरे हुए हैं। इसके चलते गत गुरुवार को रात से ही मुंबई के लोकमान्य तिलक स्टेशन पर प्रवासियों की भीड़ उमड़ने लगी। लोग कैसे भी घर जाने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं।
मुंबई में कुर्ला के लोकमान्य तिलक टर्मिनस से ही उत्तर प्रदेश और बिहार जाने वाली ज्यादातर ट्रेनें रवाना होती हैं। मुंबई के प्रवासियों में बड़ी संख्या इन्हीं इलाके के लोगों की है। ऐसे में लोकमान्य टर्मिनस पर गुरुवार रात 8 बजे से ही भीड़ बढ़ने लगी थी। इसमें ज्यादातर मजदूर वर्ग के लोग थे, जो शुक्रवार सुबह की ट्रेन के लिए लॉकडाउन के डर से देर रात ही स्टेशन पहुंच गए थे। उनका कहना था कि यहां रुके तो भूखों मरने की नौबत आ जायेगी। ऐसे में यहां रहकर क्या करें? मुंबई में रेलवे स्टेशन पर जमे प्रवासियों को पुलिस के डंडे भी खाने पड़े, ट्रेन का टिकट भी नहीं मिला। इसके बावजूद मजदूर वहां से नहीं हिले। रात से भीड़ के बढ़ने का सिलसिला जो शुरू हुआ वो सुबह भी जारी रहा। धीरे धीरे रात को भीड़ बढ़ने लगी। सिर पर बोरा, बैग और अटैची, बाल्टी लिए मजदूर लोग लोकमान्य तिलक टर्मिनस पहुंचने लगे।
भूख-प्यास से ऊपर लोगों के चेहरे पर एक ही बात की फिक्र दिखी। लॉकडाउन में न फंसकर घर लौट जाने की। कोई सोया था तो कोई जागा था। कुछ डर के मारे जाग रहे थे कि कोई सामान न ले जाए। जैसे ही भूख और इंतजार के बीच नींद लगी, पुलिस ने आकर डंडे बरसाने शुरू कर दिए और कहा- उठो ये आपका घर नहीं। इसके बाद सब डर के मारे जागते ही रहे।

- Advertisement -






- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -