29.1 C
Delhi
HomeLocal newsशिवहर : जनसंख्या समाधान अधिनियम की मांग को लेकर डीडीसी को सौंपा...

शिवहर : जनसंख्या समाधान अधिनियम की मांग को लेकर डीडीसी को सौंपा ज्ञापन

- Advertisement -

शिवहर/रंजीत मिश्रा। जनसंख्या समाधान फाउन्डेशन के तत्वावधान में विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर जनसंख्या समाधान अधिनियम की मांग को लेकर प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन कार्यकर्ताओं ने जिला शिवहर के मुख्यालय पर उपविकास आयुक्त विशाल राज ज्ञापन दिया।

जनसंख्या समाधान फाउन्डेशन के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार कोजहां एक ओर देश के 300 से अधिक जिला मुख्यालयों पर ज्ञापन दिया, वहीं जिला मुख्यालय पर कोरोना महामारी के कारण सरकार द्वारा निर्दिष्ट नियमों का पालन करते हुए उपविकास आयुक्त को प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम जनसंख्या समाधान विषयक ज्ञापन सौंपा है।

कार्यकर्ताओं ने भारत माता की जय, वन्दे मातरम के नारे लगाते हुए जनसंख्या नियंत्रण विषयक नारे भी लगाए जैसे बढ़ती जो आबादी है देश की बर्बादी है, दो बच्चों का कानून लागू करो, लागू करो जन-जन की यही पुकार दो बच्चे, पूरा परिवार, समाधान का एक जनून दो बच्चों का हो कानून।

ज्ञापन देने आये कार्यकर्ताओं ने बताया कि जनसंख्या विस्फोट की समस्या के समाधान के लिए जनसंख्या समाधान फाउन्डेशन पिछले लगभग 8 वर्षों से शांतिपूर्ण तरीके से कई राज्यों तथा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लगातार धरने प्रदर्शन, पदयात्राओं, जागरूकता रैली, जिलाधिकारियों के माध्यम से प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन, सांसद संवाद तथा सार्वजनिक सभाओं एवं रैलियों के माध्यम से सरकार के समक्ष देश में सभी नागरिकों के लिये अधिकतम दो बच्चों का कानून बनाकर लागू करने की मांग उठा रहा है।

इस विषय में 9 अगस्त 2018 को भारत के राष्ट्रपति से संस्था एवं सांसदों के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल ने भेंट करके उन्हें कानून की मांग के समर्थन में 125 सांसदों द्वारा हस्ताक्षरित संस्था का मांग पत्र सौंपकर सरकार द्वारा कानून बनाने की प्रक्रिया आरम्भ करने का अनुरोध किया है। कार्यकर्ताओं ने बताया कि देश के कोरोना संकट से उबरने के पश्चात देशभर में जनसंख्या समाधान यात्रा आरम्भ होगी तथा देशभर के सभी राज्यों के लोगों को जनसंख्या विस्फोट के प्रति जागरुक करके आन्दोलन से जोड़ा जायेगा। मौके पर रुपेश रंजन, राजीव कुमार, वरुण कुमार, सोनु कुमार, चंदन सिंह आलोक कुमार, धीरज सिंह चौहान आदि शामिल थे।

यह भी पढ़ें….

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -