34.1 C
Delhi
Homeमोतिहारीचंपारण : पीट-पीट कर हत्या मामले में चार लोगों को आजीवन कारावास...

चंपारण : पीट-पीट कर हत्या मामले में चार लोगों को आजीवन कारावास की मिली सजा

- Advertisement -spot_img

मोतीहारी/दिनेश कुमार। दशम अपर जिला एवं सत्र न्यायधीश राजेश सिंह ने जमीनी विवाद को लेकर हत्या मामले में नामजद चार अभियुक्तों को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास व प्रत्येक को पचास पचास हजार रूपए अर्थ दंड की सजा सुनाए।

अर्थ दंड नहीं देने पर छह माह की अतिरिक्त सजा काटनी होगी। सजा संग्रामपुर थाना के पूछरिया टोला निवासी रामबालक सहनी, रामबचन सहनी, जलेश्वर सहनी व मोतीलाल सहनी को हुई। मामले में स्थानीय निवासी मुख्तार सहनी ने संग्रामपुर थाना कांड संख्या 142/2018 दर्ज कराते हुए अपने पड़ोसी रामबालक सहनी, जलेश्वर सहनी, गोपाल सहनी, मोतीलाल सहनी व रामबचन सहनी को नामजद किया था।

जिसमें कहा था कि 18 अगस्त 2018 की रात्रि करीब 8 बजे वे अपने दरवाजे पर था कि नामजद लोग एक साजिश के तहत हरावे हथियार से लैस होकर आए और गाली देने लगे। उसका पुत्र अर्जुन सहनी गाली देने से मना किया तो सभी लोग तेज हथियार से उसे मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिए। वहीं पर वह मूर्छित होकर गिर पड़ा। उसे बचाने आए उसके छोटे पुत्र राधेश्याम कुमार को भी सभी लोग मारपीट कर गंभीर रूप से घायल कर दिए। दोनों का ईलाज सदर अस्पताल मोतीहारी में किया गया।

जहां ईलाज के दौरान अर्जुन सहनी की मौत हो गई। पुलिस ने पहले आरोप पत्र रामबालक सहनी व रामबचन सहनी के विरुद्ध न्यायालय में समर्पित किया। बाद में पूरक आरोप पत्र में जलेश्वर सहनी व मोतीलाल सहनी के विरुद्ध आरोप पत्र समर्पित किया गया। वहीं गोपाल सहनी के विरुद्ध अनुसन्धान जारी बताया गया। न्यायालय में दो सत्रवाद विचारण हुआ।

जिसमें सत्रवाद संख्या-56/2019 में रामबालक सहनी व रामबचन सहनी का विचारण हुआ। जिसमें अपर लोक अभियोजक मोहन ठाकुर ने सात गवाहों को न्यायालय में प्रस्तुत कर अभियोजन पक्ष रखा। वहीं दूसरे सत्रवाद संख्या -716/2819 में जलेश्वर सहनी व मोतीलाल सहनी का विचारण हुआ। जिसमें 8 गवाह न्यायालय में उपस्थित होकर अभियोजन पक्ष रखा। न्यायाधीश ने दोनों सत्र विचारण के बाद नामजद अभियुक्तों को धारा 148,323,341,302 भादवि में दोषी पाते हुए उक्त सजा सुनाए। वहीं मृतक के वैधानिक उतराधिकारी को विक्टिम कंपनसेशन राशि मिले इसके लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकण पूर्वी चंपारण को न्यायालय ने निर्देशित किया है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -