गूगल के डूडल में जानिए Steve Irwin को, ‘क्रोकोडाइल हंटर’ के नाम से हैं मशहूर

0
157
Who Is Steve Irwin, Steve Irwin, Google doodle today, google doodle,

सेंट्रल डेस्क : आज गूगल ने अपना डूडल स्टीव इरविन को समर्पित किया है, जिन्हें दुनिया ‘क्रोकोडाइल हंटर’ के नाम से जानती है. 22 फरवरी, 1962 को ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में जन्मे स्टीव पशु प्रेमी के साथ-साथ टीवी पर्सनैलिटी भी थे। मगरमच्छ से उनको खास लगाव था जिस वजह से उनको क्रोकोडाइल हंटर भी कहा जाता है।

क्रोकोडाइल हंटर के नाम से उनका एक टीवी शो भी प्रसारित होता था। यह भी विडंबना ही है कि जिस इरविन को मगरमच्छ, सांप और अन्य जानवरों से डर नहीं लगता था, वह मामूली से तोते से डरते थे। ऐसे ही उनके जीवन से जुड़ी और भी कई रोचक तथ्य हैं. आइये जानते हैं.

स्टीव इरविन की परवरिश जानवरों के बीच हुई
इरविन का जिस तारीख को जन्म हुआ था उनकी मां का जन्म भी उसी तारीख को हुआ था। स्टीव इरविन की परवरिश जानवरों के बीच हुई थी। दरअसल उनके पिता का एक चिड़ियाघर था जहां रेंगने वाले जन्तु जैसे सांप, मगरमच्छ, अजगर और अन्य जानवर थे। उनकी माता का नाम लिन इरविन और पिता का नाम बॉब इरविन था। इरविन के पिता वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट थे।

इरविन की माँ को भी था जानवरों से प्यार
उनकी मां भी वन्यजीवों के पुनर्वास के लिए काम करती थीं। आयरिश मूल के इरविन अपने माता-पिता के साथ 1970 में ऑस्ट्रेलिया के एक राज्य क्वींसलैंड में आए थे। वहां उनके माता-पिता ने एक चिड़ियाघर खोला जिसका नाम रखा ‘बीरवाह रेप्टाइल ऐंड फाउना पार्क’ जिसका बाद में नाम बदलकर ‘क्वींसलैंड रेप्टाइल ऐंड फाउना पार्क’ कर दिया गया।

मगरमच्छों और सांपों के साथ वे पले-बढ़े। वह पार्क में जानवरों को खिलाते और उनकी देखभाल करते थे। उनके पास कोई वैज्ञानिक डिग्री नहीं थी। उन्होंने जानवरों के बारे में जो कुछ सीखा था, वह उनके बीच रहकर ही सीखा था। उन्होंने अपने पिता से सीखा था कि मगरमच्छों को कैसे पकड़ें और उनकी देखभाल करें। एक बार उनके जन्मदिन पर अजगर बर्थडे गिफ्ट के तौर पर मिला था।

तोते से क्यों लगता था डर?
यकीन करना मुश्किल है लेकिन ‘क्रोकोडाइल हंटर’ को तोते से डर लगता था। एक बार उन्होंने इंटरव्यू के दौरान कहा था कि सिर्फ एक जानवर से उनको डर लगता है और वह है तोता। उन्होंने बताया कि किसी वजह से तोते ने उनको काट लिया था। काटा भी ऐसा-वैसा नहीं, बुरी तरह से। तोते ने उनकी नाक को करीब-करीब पूरी तरह काट दिया था। उन्होंने बताया कि कई बार तोतों ने उनको बुरी तरह से काटा। 

पत्नी भी थी पशु-प्रेमी
अमेरिका में जन्मीं टेरी रेन्स से स्टीव इरविन की 1991 में भेंट हुई। टेरी छुट्टियों में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर आई थीं। जहां दोनों की मुलाकात हुई। 4 जून, 1992 को दोनों ने शादी कर ली थी, दोनों ही पशु प्रेमी थे। इनकी शादी की भी एक रोचक कहानी है। दोनों ने शादी की अंगूठी पहनने से इनकार कर दिया था। उनका मानना था कि अंगूठी पहनना उन जानवरों के लिए खतरनाक हो सकता है जिनके लिए वे काम करते थे।