39.1 C
Delhi
Homeदेश-विदेशयह कैसा विकास : राजस्थान के अलवर में तीन सौ साल पुराना...

यह कैसा विकास : राजस्थान के अलवर में तीन सौ साल पुराना मंदिर बुलडोजर से ढहाया, क्या हुआ शिवालय में जानिए

- Advertisement -spot_img

राजस्थान/सेंट्रल डेस्क : राजस्थान में अलवर जिले के राजगढ़ में 300 साल पुराने शिव मंदिर को बुलडोजर से गिरा दिया गया है। वहीं शिवालय पर जूते पहनकर चढ़ने और मूर्तियों पर कटर मशीन चलाने से हिंदूवादी संगठन भी भड़क गए थे । वहीं नगर पालिका के EO, SDM और राजगढ़ विधायक के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज करवाने के लिए तहरीर दी गई है। लेकिन अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है।

हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना ही कांग्रेस का सेक्युलरिज्म-बीजेपी

इसको लेकर बीजेपी भी कांग्रेस की गहलोत सरकार पर हमलावर है। जिसमें बीजेपी नेशनल आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय ने बताया है कि हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना ही कांग्रेस का सेक्युलरिज्म है । वहीँ मालवीय ने अपने ट्वीट में यह लिखा है कि , ”राजस्थान के अलवर में विकास के नाम पर तोड़ा गया 300 साल पुराना शिव मंदिर करौली और जहांगीरपुरी पर आंसू बहाना और हिंदुओ की आस्था को ठेस पहुंचाना- यही है कांग्रेस का सेक्युलरिज्म।

मालवीय ने अपने ट्वीट में लिखा, राजस्थान के अलवर में विकास के नाम पर तोड़ा गया 300 साल पुराना शिव मंदिर। थोड़ी ही देर बार एक और ट्वीट में मालवीय ने कहा कि, ”18 अप्रैल को राजस्थान के राजगढ़ कस्बे में बिना नोटिस प्रशासन ने 85 हिंदुओं के पक्के मकानों और दुकानों पर बुलडोजर चला दिया था। ”

बचाव की मुद्रा में कांग्रेस, कहा-कानूनी अड़चन न आई तो मंदिर दोबारा बनेगा उधर, राजस्थान सरकार के मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास का कहना है कि बीजेपी झूठ बोल रही है। राजगढ़ नगरीय निकाय बोर्ड का चेयरमैन बीजेपी का है। उन्हीं ने बोर्ड में प्रस्ताव लाकर सड़क चौड़ीकरण के लिए मंदिरों और घरों को गिराया है। उन्हीं के इशारे पर मंदिर को तोड़ा गया है। जबकि हमारा यानी कांग्रेस का विधायक विरोध करते रह गया। गहलोत सरकार के मंत्री ने वादा किया है कि अगर कोई कानूनी अड़चन नहीं आई तो मंदिर दोबारा बनवाएंगे।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -