कोरोना टीकाकरण मामले में यूपी देश में अव्वल, गुजरात दूसरे स्थान पर

सेंट्रल डेस्क/नई दिल्ली : कोरोना टीकाकरण के मामले में उत्तर प्रदेश देश में सबसे अव्वल है। जबकि दूसरे स्थान पर गुजरात है। तीसरे नंबर पर महाराष्ट्र और चौथे नंबर पर राजस्थान है। उत्तर प्रदेश, गुजरात और राजस्थान में कोरोना की वैक्सीन जिस तेजी से लग रही है उतनी तेजी से कोरोना के मामले इन राज्यों में नहीं आ रहे हैं। 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश में अब तक 673542 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। इनमें 637147 स्वास्थ्यकर्मी शामिल हैं। आंकड़ों के मुताबिक यूपी में अब तक करीब 6 लाख संक्रमित मिल चुके हैं। इसी तरह गुजरात में अब तक कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या ढाई लाख पार कर चुकी है। यहां 614530 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। जिसमें 362530 स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।
देश में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में आए। 20 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हुए।
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में अब तक 573681 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। जिसमें 503000 से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मी शामिल हैं। राजस्थान में सवा तीन लाख लोग कोरोना की चपेट में आए। जब वैक्सीनेशन की बारी आई तो यहां पर अब तक 559990 लोगों को वैक्सीन की डोज दी चुकी है। इनमें 367000 से ज्यादा स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं। 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा टीका स्वास्थ्यकर्मियों को लगाया जा रहा है। अब तक पूरे देश में 70 लाख से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो चुका है। इसमें 57 लाख से ज्यादा टीका हेल्थ वर्कर को लगाया गया है। जबकि 13 लाख से ज्यादा टीके फ्रंटलाइन वर्कर को लगाए गए हैं। आंकड़ों पर अगर गौर करें तो पाएंगे सबसे ज्यादा फ्रंटलाइन वर्कर के टीके गुजरात में लगाए गए। यहां 6 लाख से ज्यादा टीके लगे। इनमें ढाई लाख से ज्यादा टीके फ्रंटलाइन वर्कर को लगाए गए।
पूरे देश में नंबर दो पर फ्रंटलाइन वर्कर को जो टीका लगा वह राजस्थान है। वहां कुल साढे पांच लाख लोगों का टीकाकरण का हुआ। इनमें से एक लाख 92 हजार से ज्यादा टीके फ्रंटलाइन वर्कर को लगाए गए। यूपी में लगने वाले 673542 टीके में  फ्रंटलाइन वर्कर की संख्या 36000 के करीब ही है। 
केरल में तकरीबन 10 लाख लोग कोरोना की चपेट में आए। केरल में अब तक 326246 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है। यह सभी वैक्सीन हेल्थ वर्कर को लगाई गई है। इस राज्य में अभी तक किसी भी फ्रंटलाइन वर्कर को वैक्सीन नहीं दी गई। इसके अलावा असम में तकरीबन सवा दो लाख लोग कोरोना कि चपेट में आए। इस राज्य में जब वैक्सीनेशन की बारी आई तो अब तक 110977 लोगों को वैक्सीनेट किया गया। लेकिन यहां भी अब तक एक भी फ्रंटलाइन वर्कर को कोरोना का टीका नहीं लगा। 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी का कहना है जिन राज्यों में फ्रंटलाइन वर्कर का टीकाकरण नहीं हुआ है वहां भी जल्द शुरुआत हो जाएगी